लोगों में क्यों नहीं बन पा रहा है कोरोना की वैक्सीन को लेकर भरोसा?

by Siddharth Chaturvedi Jan 22, 2021 • 05:59 PM Views 417

कुछ दिनों पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐलान किया था कि भारत में पूरे विश्व का सबसे बड़ा टीकाकरण कार्यक्रम होगा। 16 जनवरी से यह अभिया शुरु भी हो गया, पर पहले हफ्ते की तस्वीर देखें तो हालात दावों से बिलकुल उलट लगते हैं।ऐसा लगता है कि सरकार अभी तक जनता के मन में कोरोना की वैक्सीन को लेकर विश्वास पैदा नहीं कर पाई है। यहाँ तक कि डॉक्टरों और हेल्थ केयर वर्क्स में भी टीके को लेकर आशंकाएँ हैं।

यह बात सामने आयी है YOUGOV के एक ताज़ा सर्वे से जिसमें पता चला है कि भारत में  41% लोग अभी कुछ महीने इंतज़ार करने के बाद कोरोना का टीका लेना चाहते हैं। वहीं 33% लोगों का मानना है कि जैसे ही सबके लिए कोरोना की वैक्सीन उपलब्ध होगी वैसे ही वे बिना हिचक टीका लगवाएँगे।

वहीं 13% लोगों का कहना है कि वे कोरोना का टीका तब ही लगवायेंगे अगर सरकार इसे सबके लिए अनिवार्य करेगी और 11% का कहना है कि वे कोरोना का टीका तब ही लगवायेंगे जब उनका संस्थान इसे लगाने के लिए कहेगा। साफ़ पता चलता है कि लोग जितनी आस से कोरोना के टीके का इंतज़ार कर रहे थे अब वे उतने ही मन से इससे बचने की कोशिश कर रहे हैं।