ads

फीका रहा सरकार का टीका उत्सव, वैक्सीनेशन बढ़ने की बजाय 12% घट गया

by GoNews Desk Apr 15, 2021 • 05:42 PM Views 999

एक तरफ़ देश में कोरोना महामारी लगातार बढ़ती जा रही है तो दूसरी तरफ़ केंद्र सरकार के तमाम दावों के बावजूद भी राज्यों से वैक्सीन की कमी की शिकायत आ रही है। इन सबके बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ दिनों पहले चार दिनों का टीका उत्सव मनाने का ऐलान किया था और यह 11 से 14 अप्रैल के बीच देशभर में मनाया जाना था। इसका खूब प्रचार-प्रसार भी किया गया।

केंद्रीय मंत्री से लेकर विधायक तक सभी लोगों ने वैक्सीन लगवाने की अपील की। लेकिन इसका परिणाम ठीक उल्टा मिला। ज्योतिबा फुले की जयंती 11 अप्रैल से अंबेडकर जयंती, यानी 14 अप्रैल के बीच ये टीका उत्सव मनाया गया। लेकिन इस बीच वैक्सीनेशन बढ़ने की बजाय 12% घट गया। यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है कि जब प्रधानमंत्री मोदी ने टीका उत्सव का ऐलान किया था तब लक्ष्य यह था कि वैक्सीन भारी मात्रा में लगाई जाए पर असल में जो हुआ वो उलटा ही था।

अगर इन चार दिनों के आँकड़ों पर ग़ौर फ़रमाएँ तो पता चलता है कि वैक्सीनेशन की संख्या 1.13 करोड़ से घटकर 99 लाख रह गई। टीका उत्सव के बीच देशभर में वैक्सीन की 99.64 लाख डोज लगाई गई। इसके पहले 7 से 10 अप्रैल के बीच 1.13 करोड़, 3 से 6 अप्रैल के बीच 1.10 करोड़ और 30 मार्च से 2 अप्रैल के बीच 99.99 लाख वैक्सीन की डोज लगाई गई थी। आंकड़ों से साफ है कि टीका उत्सव में वैक्सीनेशन काफी घट गया, जबकि इस उत्सव का मकसद ही टीकाकरण को बढ़ाना था।