तमिलनाडुः पुलिस हिरासत से रिलीज छात्र की मौत; परिवार ने लगाए उत्पीड़न के आरोप

by GoNews Desk Dec 07, 2021 • 05:48 PM Views 1146

तमिलनाडु के रामनाथपुरम जिले में एक 22 साल के छात्र की कथित तौर पर पुलिस टॉर्चर के कारण मौत हो गई है। मृतक एल मनिकंदन को Keezhathooval पुलिस ने वाहन चैकिंग के दौरान शनिवार को Paramakudi-Keezhathooval रोड से हिरासत में लिया था। उससे करीब 2.5 घंटों तक पूछताछ की गई और फिर पुलिस स्टेशन से मनिकनंदन की मां को फोन कर उसे ले जाने के लिए कहा गया। 

युवक ने कथित तौर पर अपनी मां से कहा था कि उसे कुछ पुलिस वालों ने पीटा है और फिर घर आने के एक दिन बाद युवक की Mudkulathur स्थित उसके घर में मौत हो गई। युवक के परिजनों ने उसके साथ टॉर्चर का आरोप लगाया है और उस पुलिसकर्मी के ख़िलाफ़ कार्रवाई की मांग की है जिसने मनिकनंदन से पूछताछ की थी। छात्र की मौत से गुस्साए परिवार ने उसके शव को भी लेने से इंकार कर दिया है। अब तक मृतक की मौत का असली कारण सामने नहीं आया है।

इस बीच मद्रास हाईकोर्ट ने मनिकंदन का फिर से पोस्टमॉर्टम करने के आदेश दिए हैं। दरअसल मृतक की मां ने बेटे की मौत के ख़िलाफ़ अदालत में अपील की थी। उन्होंने मद्रास हाईकोर्ट में याचिका दायर कर बेटे का फिर से पोस्टमॉर्टम करने की मांग की थी। 

बीते कुछ महीनों में यूपी, बेंगलुरू समेत कई राज्यों से लोगों के साथ पुलिस कस्टडी में टॉर्चर और मौत की ख़बरें आ रही हैं। बेंगलुरू के एक मुस्लिम युवक ने भी पुलिस स्टेशन में उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं। पीड़ित की मां के मुताबिक तौसिफ को पड़ोसी के साथ झगड़े के चलते 2 दिसंबर को पुलिस स्टेशन लाया गया था। 

तौसिफ का आरोप है कि पुलिस स्टेशन में उसे क्रिकेट बैट के साथ मारा गया और उसके निजी अंगों हमला किया गया। उसने जब पीने का पानी मांगा तो उसे यूरीन दिया गया। यहां तक की अधिकारियों ने उसकी दाढ़ी भी काट दी। घटना के लिए कथित तौर पर ज़िम्मेदार Byatarayanapura पुलिस स्टेशन से जुड़े सब-इंसपेक्टर Harish KN को सस्पेंड कर दिया गया है।

पढ़ें- पुलिस कस्टडी में होने वाली मौतें 16 फीसदी बढ़ी, उत्तर प्रदेश नंबर 1 पर