ads

जन्मदिन विशेष 'सआदत हसन मंटो' : जिसने कहा मेरे अफ़साने नहीं, ज़माना नाक़ाबिले बर्दाश्त है

by GoNews Desk May 11, 2021 • 03:23 PM Views 1062

समाज के ज्वलंत मुद्दों पर बेबाकी और निडर अंदाज के साथ अपनी बात रखने वाले सआदत हसन मंटो का आज ही के दिन सन 1912 में जन्म हुआ था.

अपने छोटे से जीवनकाल के दौरान सआदत हसन मंटो ने 22 लघु कथा संग्रह, एक नॉवेल, पांच रेडियो नाटक संग्रह और रचनाओं के तीन संग्रह व व्यक्तिगत रेखाचित्र के तीन संग्रह प्रकाशित किए थे.

उनकी कहानियों में अक्सर अश्लीलता के आरोप लगते थे इस कारण सआदत को 6 बार अदालत भी जाना पड़ा. हालांकि एक भी मामला साबित न हो सका.