सस्ते लोन का इंतज़ार करने वालों को आरबीआई का झटका, जीडीपी का अनुमान घटकर 5 फ़ीसदी हुआ

by Rahul Gautam Dec 05, 2019 • 11:55 PM Views 617

आरबीआई ने मौद्रिक नीति की समीक्षा बैठक में रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया है. रेपो रेट में बदलाव नहीं करने से सस्ते लोन पाने वालों की उम्मीदों को तगड़ा झटका लगा है. ज़्यादातर बैंकों ने अपने कर्ज़ को रेपो रेट से लिंक कर दिया है और ऐसे में रेपो रेट कम नहीं होने से कर्ज़ सस्ता नहीं हो पाएगा. फिलहाल रेपो रेट 5.15 फ़ीसदी पर बना रहेगा.

वहीं चालू वित्त वर्ष के लिए आरबीआई ने जीडीपी ग्रोथ का अनुमान 6.1 फ़ीसदी से घटाकर 5 फ़ीसदी कर दिया है. 2020 के लिए भी आरबीआई ने विकास के आकड़ों के पूर्वानुमान कम कर दिया है। बैंक का कहना है कि यदि सरकारी खर्चों को निकल दे तो जीडीपी सिर्फ  3.1 फीसदी पर रहती।   

आरबीआई ने अपने बयान में कहा है कि इस वर्ष की दूसरी तिमाही के आकड़े उम्मीद से काफी कमजोर रहे हैं. कई सूचकांक के आंकड़े बताते हैं कि देश-विदेश में मांग घटी है, जिसका अर्थव्यवस्था पर उलटा असर पड़ा है. लेकिन साथ में आरबीआई ने संतोष जाहिर किया है कि विदेशी निवेश में वृद्धि दिखाई दी है।