सुप्रीम कोर्ट के फैसले को स्वीकार करना हमारी मजबूरी: नियाज फारूकी

by GoNews Desk Nov 10, 2019 • 08:58 AM Views 2290

अयोध्या विवाद के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट में वकील और मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के मेंबर नियाज अहमद फारूकी ने कहा कि, सुप्रीम कोर्ट के फैसले को स्वीकार करना हमारी मजबूरी है।

उन्होंने कहा कि, सुप्रीम कोर्ट का फैसला हर एक के ऊपर बाइंडिंग है तो इसलिये हम फैसले को स्वीकार करेंगे। ये एक सभ्य समाज का वैल्यू सिस्टम है चाहे हम उसे माने या ना माने लेकिन सिविलाइज़ बिहेवियर के तहत हमें इसे स्वीकारना चाहिये।

फारूक़ी का कहना है कि हम जजमेंट को रिव्यू करेंगे। सुप्रीम कोर्ट के बहुत सारे फैसले ऐसे आए हैं जिसपर कोर्ट ने खुद पुनर्विचार किया है। उन्होंने कहा कि, सुप्रीम कोर्ट भी गलती कर सकती है लेकिन ऐसा है कि उसकी गलती भी लीगल है।