ads

नेहरू मेरे नेता हैं, उनके जैसा त्याग किसी ने नहीं किया-सरदार पटेल

by Pankaj Srivastava Dec 15, 2020 • 04:25 PM Views 233

15 दिसंबर यानी लौहपुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की पुण्यतिथि।सन 1950 की इसी तारीख़ को भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के महान नेताओं में शुमार सरदार पटेल का निधन हुआ था। विडंबना ये है कि पक्के गाँधीवादी और कांग्रेस नेता सरदार पटेल को आजकल कांग्रेस और ख़ासतौर पर नेहरू के ख़िलाफ़ खड़ा करने की कोशिश होती है। ख़ुद प्रधानमंत्री मोदी एक से ज़्यादा बार कह चुके हैं कि नेहरू के बजाय भारत के पहले प्रधानमंत्री सरदार पटेल होते तो तमाम समस्याएँ न होतीं।

ऐसा अभियान कितना इतिहासविरुद्ध है इसको समझने के लिए आइये आपको इतिहास की सैर कराते हैं। भारत की आजादी का दिन करीब आ रहा था। मंत्रिमंडल के स्वरूप पर चर्चा हो रही थी। 1 अगस्त 1947 को नेहरू ने पटेल को लिखा-

''कुछ हद तक औपचारिकताएँ निभाना ज़रूरी होने से मैं आपको मंत्रिमंडल में सम्मिलित होने का निमंत्रण देने के लिए लिख रहा हूँ। इस पत्र का कोई महत्व नहीं है, क्योंकि आप तो मंत्रिमंडल के सुदृढ़ स्तंभ हैं।'