प्रवासी श्रमिकों के साथ होता है भेदभाव, नहीं मिलती बुनियादी सुविधाएं- राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग

by GoNews Desk Apr 19, 2021 • 05:55 PM Views 814

कोरोना से फ़िरसे देश के हालात बिगड़ रहे हैं। अस्पतालों में मरीज़ों की भीड़ है तो वहीं शमशान घाटों में लाशों का ढेर। ऐसे मुश्किल वक़्त में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की एक स्टडी सामने आई है।

प्रवासी श्रमिकों की सामाजिक सुरक्षा और स्वास्थ्य अधिकारों पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की ओर से की गई स्टडी ऐसे समय में सामने आई है जब पूरा भारत कोरोना का कहर झेल रहा है और प्रवासी श्रमिक अपने-अपने राज्यों में लौटने लगे हैं।

इस स्टडी से पता चला है कि प्रवासी श्रमिकों को बुनियादी सुविधाएं भी आसानी से नहीं मिल रही हैं। इतना ही नहीं, उन्हें बाहरी और दूसरे दर्जे के नागरिक के तौर पर भी समझा और देखा जाता है।