ads

मिट्टी के तेल पर सब्सिडी ख़त्म, एलपीजी में 36% की कटौती

by GoNews Desk Feb 24, 2021 • 05:18 PM Views 412

कोरोना ने देश का बजट और बिगाड़ दिया है। गिरती आमदनी और बढ़ता राजकोषीय घाटा के चलते केंद्र सरकार देश की गरीब जनता को मिलने वाली सब्सिडी कम करके पैसे जुगाड़ रही है। बजट 2021-22 के मुताबिक सरकार ने खाली खजाने को भरने के लिए गरीबों को मिलने वाली सरकारी मदद पर छुरी चला दी है। सबसे ज्यादा मार पड़ी है किसानों और आम आदमी को।

मसलन, जहाँ सरकार ने 2019-2020 में 34 हज़ार 86 करोड़ रुपए का प्रावधान एलपीजी सब्सिडी के लिए किया था, 2020-21 में 36 हज़ार 72 करोड़ रुपए का लेकिन 2021-22 में इसे घटाकर सिर्फ 14 हज़ार 073 करोड़ रुपए कर दिया। यानि पूरी 36 फीसदी की कटौती।

मई 2016 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने "प्रधानमंत्री उज्जवला योजना" की शुरूआत की थी। इस योजना के तहत लगभग 5 करोड़ परिवारों, विशेषकर गरीबी रेखा से नीचे रह रही महिलाओं को रियायती एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध कराए जाते हैं। इसी तरह पहल योजना के तहत भी लोगो को एलपीजी सब्सिडी मिलती है। ज़ाहिर है  स्कीम की सब्सिडी कम होने से इसके लाभार्थियों का दायरा छोटा होगा।