1990 के दशक के बाद पहली बार गिरी 'मिडल क्लास' की आबादी, भारत में सबसे ज़्यादा बढ़ी गरीबी

by GoNews Desk Mar 21, 2021 • 11:47 AM Views 1393

कोरोना महामारी ने पूरी दुनिया को बुरी तरह प्रभावित किया है। साल 1990 के बाद पहली बार ऐसा हुआ है कि मिडल क्लास की आबादी में गिरावट दर्ज की गयी है।

वहीं कोरोना महामारी का असर भारत में भी साफ़ देखने को मिल रहा है। देश में उत्पन्न हुए वित्तीय संकट के कारण करीब तीन करोड़ 20 लाख लोग मिडल क्लास की श्रेणी से बाहर हो गये हैं। अमेरिका के प्यू रिसर्च सेंटर ने कहा है कि कोरोना संकट ने भारत के 32 मिलियन लोगों को मिडल क्लास की श्रेणी से नीचे धकेल दिया है।

प्यू रिसर्च सेंटर के मुताबिक, कोरोना संकट काल में मिडल क्लास में 10 डॉलर से 20 डॉलर प्रतिदिन कमानेवालों की संख्या में करीब तीन करोड़ 20 लाख की गिरावट दर्ज की गयी है। कोरोना संकट के पहले देश में मिडल क्लास की श्रेणी में करीब नौ करोड़ 90 लाख लोग थे। जबकि, कोरोना महामारी के कारण इनकी संख्या घट कर करीब छह करोड़ 60 लाख हो गयी है।

वहीं, स्टडी के मुताबिक कोरोना महामारी के कारण देश में उच्च आय की श्रेणी के 6.2 करोड़ लोग मिडल क्लास की श्रेणी में आ गये हैं। उच्च आय की श्रेणी में ऐसे लोग आते हैं, जिनकी प्रतिदिन की आय 50 डॉलर या उससे अधिक होती है।