ads

मोदी राज में मानवाधिकार उल्लंघन और कार्यकर्ताओं का उत्पीड़न बढ़ा- ह्यूमन राइट्स वाच

by GoNews Desk Jan 18, 2021 • 07:56 PM Views 314

अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन ह्यूमन राइट्स वॉच की ताज़ा रिपोर्ट का कहना है की देश में बीजेपी राज में मानवाधिकार कार्यकर्ताओं, पत्रकारों, दलितों, मुसलमानो और सरकार की आलोचना करने वालों को तेज़ी से परेशान, उत्पीड़ित और गिरफ्तार किया जा रहा है।

इस रिपोर्ट के मुताबिक साल 2020 में मोदी सरकार ने जम्मू और कश्मीर के मुस्लिम-बहुल क्षेत्रों पर कठोर और भेदभावपूर्ण प्रतिबंध लगाना जारी रखा। ध्यान रहे, केंद्र सरकार ने अगस्त 2019 में जम्मू कश्मीर की संवैधानिक स्थिति को रद्द करके इसे दो केंद्र शासित क्षेत्रों में बाँट दिया था। जम्मू और कश्मीर में सैकड़ों लोगों को बिना किसी दोष के लोक सुरक्षा कानून के तहत हिरासत में रखा गया, जो दो साल तक सुनवाई के बिना हिरासत में रखने की अनुमति देता है। इसी तरह सुरक्षा के नाम पर इंटरनेट पर पाबंदी अगस्त 2019 से ही जारी रही जिससे घाटी में लोगों को ख़ासा नुक्सान हुआ।

ह्यूमन राइट्स वॉच का कहना है कि मोदी राज में अल्पसंख्यकों, खासकर मुसलमानों के खिलाफ हमले जारी हैं जबकि उन भाजपा नेताओं और समर्थको के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई है जिन्होंने मुसलमानो की छवि ख़राब की या उनके खिलाफ हिंसा की। रिपोर्ट में दिल्ली दंगो का जिक्र करते हुए कहा गया है की ज्यादातर पीड़ित मुस्लिम परिवार से थे जबकि कपिल मिश्रा जैसे भड़काऊ भाषण देेने वाले बीजेपी नेता पर कोई कार्रवाई नहीं हुई।