Exclusive: एंटी चाइल्ड लेबर डे पर गोन्यूज़ की कैलाश सत्यार्थी से ख़ास बातचीत

by GoNews Desk Jun 14, 2021 • 01:33 PM Views 606

पूरी दुनिया में करोड़ों बच्चे आज भी ग़रीबी के चलते बचपन से महरूम और काम करने को मज़बूर हैं। इस कड़वी सच्चाई को बदलने के लिए ही 12 जून पूरी दुनिया में 'एंटी चाइल्ड लेबर डे' के रूप में मनाया जाता है। मक़सद है पूरी दुनिया का इस समस्या की तरफ ध्यान खींचना। हालात सबसे ज़्यादा ख़राब गरीब-विकाशील देशों में है, जहां करोड़ों बच्चे अपना और अपने परिवार का पेट भरने के लिए सड़कों, होटलों और कारख़ानों में मज़दूरी कर रहे हैं।

इंटरनेश्नल लेबर ऑर्गेनाइज़ेशन की साल 2017 की रिपोर्ट बताती है कि देश में 5-14 साल के बच्चों की तादाद 25.9 करोड़ है। इनमें एक करोड़ से भी ज़्यादा बच्चे दिहाड़ी पर मज़दूरी करते हैं। यानि बच्चों की कुल आबादी का 3.9 फीसदी। इनमें सबसे ज़्यादा बाल मज़दूरी ग्रामीण इलाक़ों में हो रहा है जहां 80.1 लाख बच्चे बाल मज़दूरी में लगे हैं।

देखिए इसको लेकर गोन्यूज़ के एडिटर-इन-चीफ पंकज पचौरी ने बच्चों के लिए काम करने वाले कैलाश सत्यार्थी से बात की।