ads

गोन्यूज़ स्पेशल: क़िस्सा कांग्रेस का

by GoNews Desk Mar 10, 2021 • 09:17 AM Views 403

फ़िल्म प्यार की जीत साल 1948 इस दिल के टुकड़े हज़ार हुए कोई यहाँ गिरा कोई वहाँ गिरा एक गाना है लेकिन आज जो क़िस्सा आपको सुनाऊँगा वो बड़ा पुराना है. 1948 से भी पुराना. आज़ादी से भी पुराना. कांग्रेस मुक्त भारत का नारा नया है लेकिन कॉन्सेप्ट काफ़ी पुराना है. ध्यान से सुनिए.

क़िस्सा ये है कि देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस… 70 बार टूट चुकी है. बीसीयों दिग्गज नेता पार्टी से बाहर गए अलग अलग पार्टियाँ बनाई. कई नेताओं का सिक्का चल गया जिनका नहीं चला वे पार्टी में वापस आ गए.

चुनाव जीते मंत्री भी बने मुख्यमंत्री भी बने. मानो कांग्रेस बहती हुई धारा है. कितने आ रहे हैं कितने जा रहे हैं. लेकिन ऐसा क्या कारण है कांग्रेस ख़त्म नहीं होती. इसलिए कहा कि कांग्रेस मुक्त भारत का कॉन्सेप्ट बहुत पुराना है. G 23 के इस दौर में इस बार भी कुछ ऐसा ही हो रहा है.

क्सवाल उठने लगे हैं कि क्या कांग्रेस टूट जाएगी. आज़ादी के बाद सिंडिकेट और इंडिकेट का क़िस्सा भी आपको सुनाऊँगा लेकिन पहले सुनिए G23 का नया शिगूफ़ा जो वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य में कांग्रेस का सबसे खराब दौर कहा जा सकता है.