ads

खनन पर पाबंदी से गोवा की अर्थव्यवस्था पर ख़तरा, लाखों तीन साल से बेरोजगार

by GoNews Desk May 14, 2021 • 01:50 PM Views 1030

गोवा, देश का दूसरा सबसे छोटा राज्य और सबसे बड़े अयस्क एक्सपोर्टर राज्य की अर्थव्यवस्था ख़तरे में है। फरवरी 2018 में सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक फैसले में 88 खनन पट्टों को रद्द करने का फैसला सुनाया था। इस फैसले का राज्य की अर्थव्यवस्था पर तो प्रतिकूल प्रभाव पड़ा ही, साथ ही हज़ारों लोगों का रोजगार भी छिन गया।

खनन का राज्य की अर्थव्यवस्था में 25 फीसदी योगदान है। कोरोना के साथ-साथ राज्य का टूरिज़्म सेक्टर भी ठप्प पड़ा है। इसकी वजह से राज्य की अर्थव्यवस्था की हालत और ज़्यादा ख़स्ता हो गई। देश का दूसरा सबसे छोटा यह राज्य पहाड़ों से घिरा है।

अनुमानों के मुताबिक़ राज्य की पहाड़ियों में एक अरब टन का अयस्क का अभी भी बड़ा भंडार है जिसमें इसके पड़ोसी राज्य कर्नाटक की सीमा पर वन्यजीव रिज़र्व भी शामिल है। देशभर में स्टील के लिए आधे से ज़्यादा कच्चा माल यहीं से आता है। चुंकी खनन इस राज्य की अर्थव्यवस्था के लिए रीढ़ की हड्डी के बराबर थी, इसलिए राज्य को मिलने वाले विदेशी मुद्रा का नुक़सान भी बड़ा है।