ads

किसानों के लिए जो 'सीएम मोदी' ने माँगा था, वही 'पीएम मोदी' से माँग रहे हैं किसान

by GoNews Desk Dec 05, 2020 • 06:45 PM Views 944

कृषि क़ानून के ख़िलाफ किसानों का आंदोलन दसवें दिन भी जारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके मंत्री क़ानून को ‘किसान हितैषी’ बताने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे। हाल ही में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा क़ानून को लेकर किसानों को ‘भड़काया’ जा रहा है। किसानों को 'भ्रमित' किया जा रहा है। लेकिन दिलचस्प बात ये है कि कभी खुद मोदी जी ने भी वही माँगें की थी जिनकी वजह से आज किसान आंदोलन पर मज़बूर हैं।

किसानों का आंदोलन तेज़ होने के बीच यह जानकारी काफ़ी चर्चा में है कि गुजरात के मुख्यमंत्री रहते मोदी जी का रुख बिलकुल उलट था। वे तब केंद्र की ओर से बनाये गये कंज़्युमर अफेयर्स वर्किंग ग्रुप के अध्यक्ष थे। तब उन्होंने तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को एक रिपोर्ट सौंपी थी जिसमें उन्होंने एमएसपी को लेकर कई सुझाव दिए थे।उन्होंने अपनी रिपोर्ट में मांग की थी, ‘सभी आवश्यक वस्तुओं के संदर्भ में सांविधानिक निकाय के ज़रिए किसानों का हित संरक्षित किया जाना चाहिए। साथ ही किसी भी किसान और व्यापारी के बीच लेन-देन एमएसपी से नीचे नहीं होना चाहिए।’

उन्होंने अपनी रिपोर्ट में कहा था, ‘जिन फसलों पर एमएसपी है, उन फसलों की ख़रीद के लिए विश्वसनीय व्यवस्था बनायी जाये। एक विश्वसनीय संस्था होनी चाहिए जो यह सुनिश्चित करे कि एमएसपी के नीचे फसल की खरीद न हो।’