ads

2 फीसदी से भी कम बलात्कार पीड़ित दलित महिलाओं को मिलता है इंसाफ

by GoNews Desk Oct 02, 2020 • 07:38 PM Views 529

उत्तर प्रदेश के हाथरस में दलित लड़की के साथ हुई दरिंदगी से महिलाओं के ख़िलाफ़ होने वाली हिंसा एक बार फिर सुर्खियों में आ गई है. अगर महिलाएं वंचित समुदाय से हों तो उनके साथ यौन हिंसा होने की आशंका ज़्यादा होती है. नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो के मुताबिक साल 2019 में हर रोज़ 10 दलित महिलाओं को बलात्कार का शिकार बनाया गया।

देश में वैसे ही बलात्कार के मामलो में कन्विक्शन रेट यानि सजा दिलवाने की दर केवल 27.8 फीसदी है लेकिन अगर पीड़ित दलित है तो ये दर और घटकर 2 फीसदी से भी कम रह जाती है। आसान भाषा में कहे तो अगर बलात्कार पीड़ित एक दलित महिला है, तो उन्हें इंसाफ मिलना बेहद मुश्किल है।