दावे के उलट, अशांत हुआ जम्मू और कश्मीर

by GoNews Desk Oct 07, 2021 • 07:11 PM Views 853

श्रीनगर के ईदगाह इलाके में वीरवार को एक और चरमपंथी हमले में दो स्कूल अध्यापकों की मौत हो गई है। मरने वालों की पहचान सरकारी स्कूल की प्रींसिपल सुपिंदर कौर और दीपक चंद के रूप में हुई है। हमले में जान गंवाने वाले दोनों मृतक श्रीनगर के अल्लोची बाग इलाके में रहते थे। मंगलवार से यह चौथा हमला है जिसमें 5 आम नागिरकों ने जान गंवाई है जबकि बीते हफ्ते से अब तक हुए हमलों में श्रीनगर में ही 7 लोग मारे गए हैं। मंगलवार को अलग अलग हमलों में माखन लाल बिंदू, 68 वर्षीय केमिस्ट, बिहार के भागलपुर के स्ट्रीट वेंडर वीरेंद्र पासवान और टैक्सी ड्राइव मुहम्मद शफी लोन की हत्या कर दी गई थी।

घाटी में लगातार हो रही चरमपंथी घटनाओं ने केंद्र के धारा 370 हटने के बाद जम्मू-कश्मीर में हालात सामान्य होने के दावों को खारिज कर दिया है। डेक्कन हेराल्ड की गुरूवार को एक रिपोर्ट में कहा गया कि साल 2021 में अब तक ऐसे कई चरमपंथी हमलों में 25 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं जबकि इस अवघि में 20 सुरक्षा कर्मियों ने ड्यूटी के दौरान अपनी जान गंवाई। ऐसे में आलोचकों का कहना है कि केंद्र सरकार धारा 370 को रद्द करने दौरान किए गए अपने वादों को पूरा करने में नाकाम रही है क्योंकि केंद्र सरकार के राज में आम लोग ही नहीं बल्कि उन्हें सुरक्षा देने वाले सिक्योरिटी पर्सनल भी खतरे में हैं।