Pegasus मामले की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने बनाई स्वतंत्र कमेटी, केन्द्र को फटकार

by GoNews Desk Oct 27, 2021 • 02:18 PM Views 340

सुप्रीम कोर्ट ने पेगासस जासूसी मामले पर अपना फैसला सुना दिया है। सुप्रीम कोर्ट में सीजेआई एनवी रमन्ना की अगुवाई वाली तीन जजों की बेंच ने अपने फैसले में एक स्वतंत्र जांच कमेटी स्थापित की है। सीजेआई ने फैसला सुनाते हुए कहा कि, “निजता का अधिकार प्रभावित होने का आरोप है, पूरी नागरिकता प्रभावित है। केन्द्र सरकार ने कोई स्पष्ट रुख नहीं लिया। कोई गंभीरता नहीं दिखाई गई।”

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि निजता सभी नागरिकों के लिए महत्वपूर्ण है। सीजेआई एनवी रमन्ना की अगुवाई वाली बेंच ने कहा कि “कुछ याचिकाकर्ता सीधे तौर पर इस मामले का शिकार हैं और कुछ जनहित याचिकाकर्ता हैं। सीजेआई ने जॉर्ज ऑरवेल (1984) के हवाले से कहा, “अगर आप कुछ सीक्रेट रखना चाहते हैं, तो आपको इसे अपने आप से भी छिपाना होगा।"

सुप्रीम कोर्ट ने पेगासस मामले में अपने आदेश में कहा, “लोकतांत्रिक समाज के सदस्यों को गोपनीयता की उचित चिंता है। नागरिकों को निजता के उल्लंघन से बचाने की ज़रूरत है।” लोकतांत्रिक समाज इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में एक याचिकाकर्ता हैं। सुप्रीम कोर्ट ने आगे कहा कि, “इसे अन्य मौलिक अधिकारों की तरह महसूस करने की आवश्यकता है, कुछ प्रतिबंधों की ज़रूरत है। लेकिन इन प्रतिबंधों की संवैधानिक जांच होनी चाहिए।”