2019 में भारत में वायु प्रदूषण से 1.16 लाख नवजात शिशुओं की मौत : रिपोर्ट

by Siddharth Chaturvedi Oct 22, 2020 • 12:42 PM Views 875

वायु प्रदूषण से दिल्ली-एनसीआर समेत भारत के कई राज्यों में काफी बुरा हाल है। पंजाब और हरियाणा में किसानों द्वारा जलाई जा रही पराली के कारण दिल्ली की हवा की गुणवत्ता और बिगड़ रही है। हालात इतने ख़राब है की दिल्ली में हर व्यक्ति ना चाहते हुए भी 15 से 20 सिगरेट पीने जितना ज़हरीला धुआँ झेलने को मजबूर है। इसी बीच स्टेट ऑफ ग्लोबल एयर-2020 ने एक चौंकाने वाली रिपोर्ट सामने रखी है। इस रिपोर्ट के आंकड़ों को देखकर भारतीयों को अब संभल जाना चाहिए।

इस रिपोर्ट के मुताबिक वायु प्रदूषण की सबसे ज्यादा कीमत नवजात शिशुओं को चुकानी पड़ रही है। देश में हर साल 16.70 लाख शिशुओं की मौतें होती हैं जिसमें एक बड़ा हिस्सा वायु प्रदूषण के कारण होने वाली मौतों का है। अध्ययन में दावा किया गया है कि पिछले साल भारत में 1.16 लाख नवजात शिशुओं की वायु प्रदूषण के चलते मौत हुई थी। रिपोर्ट के अनुसार नवजात शिशुओं का पहला महीना उनकी जिंदगी का सबसे जोखिम भरा होता है, मगर आईसीएमआर के हालिया अध्ययनों समेत विभिन्न देशों से प्राप्त वैज्ञानिक प्रमाण यह संकेत देते हैं कि गर्भावस्था के दौरान वायु प्रदूषण के संपर्क में आने से बच्चे का वजन कम होता है। समय से पहले जन्म लेने की घटनाएँ भी इससे बढ़ रही हैं। यह दोनों ही स्थितियाँ शिशुओं की मृत्यु से जुड़ी हैं।