आख़िर मुस्लिम संगठन PFI पर बार-बार क्यों लगते हैं आतंकी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप ?

by GoNews Desk Oct 08, 2020 • 05:18 PM Views 872

बिहार विधानसभा चुनाव के ठीक पहले रिटायरमेंट लेकर खुद को बक्सर का बेटा बताकर जनता दल यूनाइटेड में शामिल हुए बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे को झटका लगा है.  कयास लगाए जा रहे थे की गुप्तेश्वर पांडे को बक्‍सर जिले की किसी सीट से एनडीए का प्रत्‍याशी बनाया जा सकता है लेकिन ऐसा हुआ नहीं। क्योंकि बक्सर सीट चली गयी बीजेपी के कोटे में, जहा से उन्होंने पूर्व हवलदार परशुराम चतुर्वेदी को टिकट दे दिया और जेडयू की लिस्ट से तो गुप्तेश्वर पांडे का नाम ही नदारद था।

इस घटनाक्रम के बाद पूर्व डीजीपी ने साफ़ किया है की वो चुनाव नहीं लड़ने जा रहे है। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा की - मेरे VRS लेने और पार्टी की सदस्यता लेने को सीधे चुनाव से जोड़कर देखना ठीक नहीं है। चुनाव लड़ने की संभावना थी, किसी कारण वश ये समीकरण नहीं बैठा। राजनीति में बहुत सारी मजबूरियां होती हैं लेकिन मैं एनडीए के साथ रहूंगा।