ads

म्यामाँर में दमन के बीच लोकतंत्र बहाली आंदोलन तेज़, चुनाव आयोग के 20 अधिकारी भी हिरासत में

by M. Nuruddin Feb 13, 2021 • 06:42 PM Views 720

लोकतांत्रिक सरकार को बरख़ास्त करके देश की बागडोर अपने हाथ में ले लेने वाली सेना के ख़िलाफ़ म्याँमार में प्रदर्शनों की बाढ़ आयी हुई है। लोग लोकतंत्र को बहाल करने की मांग को लेकर सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं। उधर, सेना और पुलिस के ज़रिये प्रदर्शनकारियों का दमन भी तेज़ हो गया है। लाठीचार्ज के साथ-साथ पैलेट गन, वॉटर कैनन और कभी-कभी तो गोलियाँ भी चला रही हैं। एम्नेस्टी इंटरनेशनल के मुताबिक़ सुरक्षा बलों को मशीन गन के साथ तैनात किया गया है। सुरक्षा लों की गोली से एक महिला प्रदर्शनकारी के मारे जाने की ख़बर है।

सेना ने 1 फरवरी को म्यांमार की स्टेट काउंसिलर आंग सांग सू की को हिरासत में लेकर सत्ता का नियंत्रण अपने हाथों में ले लिया था। प्रदर्शनकारी आंग सांग सू की की रिहाई और लोकतंत्र बहाल करने की मांग कर रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक़ सरकारी अधिकारी समेत सोशल एक्टिविस्ट और प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले रही है। रिपोर्ट के मुताबिक़ अब तक करीब 400 लोगों को हिरासत में लिया गया है।

म्यांमार के इस तख़्तापलट का दुनियाभर में विरोध हो रहा है। युनाइटेड नेशन ने शुक्रवार को एक प्रस्ताव पारित किया है जिसमें स्टेट काउंसिलर आंग सांग सू की की रिहाई की मांग की गई है। हाँलाकि यह संशोधित प्रस्ताव है। मूल प्रस्ताव में संयुक्त राष्ट्र विशेषज्ञों को जांच के लिए म्यांमार भेजे जाने की बात भी कही गई थी जिसे रूस और चीन के विरोध के बाद हटा गया है। पहले चीन और रूस ने सेना की कार्रवाई को म्यांमार का आंतरिक मामला बताते हुए प्रस्ताव का विरोध किया था।