IPO में तेज़ी से अर्थव्यवस्था के बढ़ने की उम्मीद काठ के घोड़े खींचने जैसा !

by GoNews Desk Oct 18, 2021 • 05:47 PM Views 564

भारत के आईपीओ बाज़ार में तेज़ी है और इस साल अक्टूबर महीने के दूसरे सप्ताह में 44 कंपनियों को स्टॉक एक्चेंज के लिए बाज़ार में लिस्ट किया गया है। इससे देश के मार्केट कैप में 80 हज़ार करोड़ रूपये से ज़्यादा का इज़ाफा हुआ है। शेष 2021 के लिए 50 से ज़्यादा आईपीओ लाइन में हैं, जिनमें जीवन बीमा निगम, पेटीएम, पॉलिसी बाज़ार और अडानी विल्मर जैसी बड़ी कंपनियां शामिल हैं, और इससे शेयर बाज़ार में एक लाख करोड़ रूपये तक जोड़े जा सकते हैं।

इसे अर्थव्यवस्था की मज़बूती और सरकार की ओर से अर्थव्यवस्था में तेज़ी का संकेत बताया जा रहा है। बाज़ार के एक्सपर्ट द्वारा यह भी कहा जा रहा है कि वर्तमान आईपीओ रैली का नेतृत्व ख़ुदरा निवेशक कर रहे हैं जो पहली  बार लाखों में आने वाले निवेशक हैं और हाल ही में लॉन्च किए गए कई सारे निवेश डिजिटल एप्लिकेशन का इस्तेमाल कर रहे हैं। "ज़ोमैटो के उपभोक्ता अब ज़ोमेटो के निवेशक बन गए हैं और वे इस बात को टीवी चैनल पर ज़ोर-शोर से बता रहे हैं।

अगर देखें तो एक दशक पहले तक शेयर बाज़ार में निवेश के 6 मिलियिन निवेशक अकाउंट थे लेकिन अब दावे किए जा रहे हैं कि शेयर बाज़ार की पहुंच बढ़ी है और दावा है कि देश की 5 फीसदी आबादी या 50 मिलियन लोगों के पास अब निवेशक खाता है।

TAGS