ads

LinkedIn के 500 मिलियन यूज़र्स का डाटा सेल के लिए उपलब्ध - साइबर न्यूज़

by GoNews Desk 1 month ago Views 7554

Data of 500 million users of LinkedIn available fo
जैसे जैसे यह दुनिया डिजिटल युग की तरफ़ बढ़ रही है वैसे वैसे अब यह भी लगने लगा है कि यूज़र का डाटा असुरक्षित होता जा रहा है। कुछ दिन पहले ही 53 करोड़ से ज़्यादा फेसबुक यूज़र्स का डाटा लीक होने की बात सामने आई थी। और अब बिजनेस-जॉब सर्च कंपनी लिंक्डइन इसका शिकार बनी है। लिंक्डइन यूज़र्स का डाटा लीग हो गया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, लिंक्डइन के करीब 500 मिलियन अकाउंट्स का डाटा एक हैकर फोरम पर सेल के लिए उपलब्ध है।

साइबर न्यूज़ के मुताबिक, लीक हुई जानकारी में लिंक्डइन आईडी, पूरा नाम, ईमेल एड्रेस, फोन नंबर, जेंडर, लिंक्डइन प्रोफाइल के लिंक, अन्य सोशल मीडिया प्रोफाइल के लिंक, प्रोफेशनल टाइटल्स और अन्य काम से संबंधित बहुत सारा डाटा शामिल हैं।


डाटा लीक का मामला सामने आने के बाद माइक्रोसॉफ्ट के स्वामित्व वाली कंपनी लिंक्डइन ने कहा है कि उसने इस मामले की जांच की है। लिंक्डइन के प्रवक्ता ने कहा, “हम मामले की जांच कर रहे हैं, पोस्ट किया हुआ डाटा लिंक्डइन पर सभी को दिखने वाली जानकारी के साथ-साथ दूसरी वेबसाइट या कंपनियों से एग्रिगेट किया हुआ नज़र आता है।”

प्रवक्ता ने कहा कि लिंक्डइन से मेंबर्स का डाटा स्क्रैप करना कंपनी के नियमों का उल्लंघन है। कंपनी ने साथ ही ये भी कहा है कि प्राइवेट सदस्यों का डाटा सेफ है। इसका मतलब है कि स्क्रैप किया हुआ डाटा लिंक्डइन के पब्लिक मेंबर्स का है।

वहीं आपको बता दें कि कुछ दिन पहले दुनियाभर के 100 से भी ज़्यादा देशों के करीब 53 करोड़ से ज़्यादा फेसबुक यूज़र्स का डाटा ऑनलाइन लीक हुआ था। इसमें से 50 करोड़ से ज़्यादा लोगों के फोन नंबर और प्राइवेट डाटा को हैकर्स ने सार्वजनिक कर दिया था। फेसबुक के मालिक मार्क जुकरबर्ग का फोन नंबर और पर्सनल डाटा को भी सार्वजनिक कर दिया था। इसमें 60 लाख भारतीय यूज़र्स भी शामिल थे। लीक डाटा में फेसबुक आईडी, नाम, पता, जन्मदिन और ई-मेल एड्रेस शामिल थे।

फेसबुक ने इस मामले पर सफाई देते हुए कहा कि लीक हुआ सारा डाटा 2019 से पहले का है। ये 2019 में लीक हुआ था। आगे ऐसा न हो इसके लिए अगस्त 2019 में खामियां सुधारी गई थीं।

ग़ौर करने वाली बात यह है कि ऐसे तमाम मामलों के घटने के बावजूद क्या कंपनियाँ सिर्फ़ सफ़ाई ही देती रहेंगी क्यूँकि ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब आम जनता का डाटा लीक हुआ है और एक बार फ़िरसे निजता का मखौल उड़ाया गया है।

ताज़ा वीडियो