देश में 53 'क्रिकेट स्टेडियम' पर एक भी खिलाड़ी के नाम नहीं

by GoNews Desk 9 months ago Views 47304

No players named in 53 cricket stadiums in the cou
गुजरात के अहमदाबाद में दुनिया का सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम का उद्घाटन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा हो चुका है। 24 फरवरी से पहले तक इस स्टेडियम को सरदार पटेल स्टेडियम या मोटेरा स्टेडियम के नाम से जाना जाता था, लेकिन अब इसका नाम बदलकर 'नरेंद्र मोदी स्टेडियम' कर दिया गया है। 1.32 लाख दर्शको के बैठने की क्षमता वाले इसी स्टेडियम का नाम बदलने पर विपक्ष ने केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया है।

दरअसल गृहमंत्री अमित शाह ने कहा था क्यूंकि यह प्रधानमंत्री मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट है, इसलिए उन्होंने स्टेडियम का नाम प्रधानमंत्री के नाम पर रखने का फैसला किया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी कहा कि इस स्टेडियम का कॉन्सेप्ट प्रधानमंत्री मोदी ने तब सोचा था, जब वो गुजरात के मुख्यमंत्री थे। उस समय वो गुजरात क्रिकेट एसोसिएशन के प्रेसिडेंट भी थे।


वैसे अब थोड़ा क्रिकेट स्टेडियम के इतिहास पर नज़र डालते हैं। क्रिकेट स्टेडियम की शुरुआत इंग्लैंड से हुई थी, लेकिन वहां 23 क्रिकेट स्टेडियम ही हैं। जबकि भारत इस लिस्ट में दुनिया में अव्वल है, यहाँ 53 क्रिकेट स्टेडियम हैं। हालांकि, इनमें से सिर्फ 24 स्टेडियम में ही इंटरनेशनल या डोमेस्टिक क्रिकेट खेला जा रहा है।

बहरहाल, अब ध्यान देने वाली बात यह है कि दुनिया में सबसे ज़्यादा क्रिकेट स्टेडियम भारत में हैं, लेकिन कोई भी क्रिकेटर के नाम पर नहीं है। सभी के नाम नेताओं, उद्योगपतियों, एडमिनिस्ट्रेटर्स के नाम पर रखे गए हैं। यहाँ तक कि दो क्रिकेट स्टेडियम ऐसे हैं, जिनके नाम हॉकी खिलाड़ियों के नाम पर रखे गए हैं। इनमें एक ग्वालियर का कैप्टन रूप सिंह स्टेडियम है और दूसरा लखनऊ का केडी सिंह बाबू स्टेडियम है।

वैसे आपको बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ऐसे पहले व्यक्ति नहीं हैं, जिनके जीवित रहते हुए स्टेडियम का नाम उनके नाम पर रखा गया है। उनसे पहले नवी मुंबई का डीवाई पाटिल स्टेडियम, बेंगलुरु का एम चिन्नास्वामी स्टेडियम, चेन्नई का एमए चिदंबरम स्टेडियम और मोहाली का आईएस बिंद्रा स्टेडियम का नाम भी इन व्यक्तियों के जीवित रहते रखा गया। मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम का नाम भी एसके वानखेड़े के जीवित रहते ही रखा गया था।

वैसे देश में क्रिकेट, फुटबॉल, हॉकी, टेनिस और सभी खेलों के करीब 135 स्टेडियम हैं। इनमें से 16 स्टेडियम ऐसे हैं, जिनके नाम पूर्व प्रधानमंत्रियों के नाम पर रखे गए हैं। पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के नाम पर 8 स्टेडियम के नाम रखे गए हैं। वहीं इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के नाम पर 3-3 स्टेडियम के नाम हैं। लाल बहादुर शास्त्री और अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर एक-एक स्टेडियम हैं। इसके अलावा 2019 में दिल्ली के फिरोज शाह कोटला स्टेडियम का भी नाम बदलकर अरुण जेटली स्टेडियम कर दिया गया था।

जिस तरह से क्रिकेट स्टेडियम्स के नाम किसी क्रिकेटर के नाम पर नहीं हैं, ऐसे ही स्टेट क्रिकेट एसोसिएशन में भी क्रिकेटर्स का कुछ खास दबदबा नहीं है। राज्यों के क्रिकेट एसोसिएशन को देखें तो इनका प्रेसिडेंट कोई बड़ा व्यापारी या कोई राजनेता ही मिलेगा।

जैसे- राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन के प्रेसिडेंट हैं वैभव गहलोत, जो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेटे हैं। पंजाब में रजिंदर गुप्ता हैं, जो बिजनेसमैन हैं और ट्राइडेंट ग्रुप के चेयरमैन हैं। बिहार में राकेश कुमार तिवारी हैं, जो बिहार भाजपा के कोषाध्यक्ष भी हैं। वहीं इन सब जगहों के ज़िक्र के बीच में एक नाम है जिसे नज़रंदाज नहीं किया जा सकता और वो है भारत के गृहमंत्री अमित शाह के बेटे जय शाह का जो भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के सचिव हैं और साथ ही अब एशियाई क्रिकेट परिषद (एसीसी) के अध्यक्ष भी हैं।

इन हालातों को देखते हुए पूर्व क्रिकेटर बिशन सिंह बेदी की बात याद आती है जो उन्होंने फिरोज शाह कोटला स्टेडियम का नाम अरुण जेटली स्टेडियम बदलने पर कही थी।

उन्होंने कहा था कि दिवंगत जेटली मूल रूप से नेता थे और संसद को उनकी यादों को संजोना चाहिए। उन्होंने कहा,‘ नाकामी का जश्न स्मृति चिन्हों और पुतलों से नहीं मनाते। उन्हें भूल जाना होता है। आपके आसपास घिरे लोग आपको नहीं बताएंगे कि लॉडर्स पर डब्ल्यू जी ग्रेस, ओवल पर सर जैक हॉब्स, सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर सर डॉन ब्रेडमैन, बारबाडोस में सर गैरी सोबर्स और मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर शेन वॉर्न की प्रतिमाएं लगी हैं। खेल के मैदान पर खेलों से जुड़े रोल मॉडल रहने चाहिए। प्रशासकों की जगह शीशे के उनके केबिन में ही है। डीडीसीए यह वैश्विक संस्कृति को नहीं समझता तो मैं इससे परे रहना ही ठीक समझता हूं। मैं ऐसे स्टेडियम का हिस्सा नहीं रहना चाहता जिसकी प्राथमिकताएं ही गलत हो। जहां प्रशासकों को क्रिकेटरों से ऊपर रखा जाता हो।’

ताज़ा वीडियो