GoFlashback: ओलंपिक्स में भी थे कभी रस्साकशी के जलवे

by M. Nuruddin 2 years ago Views 2032

Olympics tug-of-war
‘रस्साकशी’ एक ऐसा खेल जिसे तकरीबन सभी ने बचपन में ज़रूर खेला है और यदि खेला नहीं भी है तो देखा ज़रूर होगा। इस खेल में बल की ज़रूरत पड़ती है जिसके पास ज्यादा ताक़त होती है जीत उसी की होती है। ये खेल बाकि खेलों की तरह उतनी लोकप्रियता तो हासिल नहीं कर पाया लेकिन आपको ये जानकर काफी हैरानी होगी कि रस्साकशी का खेल कभी ओलंपिक का भी हिस्सा रह चुका है। साल 1900 में पेरिस में हुए ओलंपिक में इस खेल को शामिल किया गया था लेकिन कुछ ही समय बाद इस खेल को ओलंपिक से विदाई लेनी पड़ी।

दरअसल ओलंपिक में खेलों की संख्या ज्यादा हो गई थी जिस कारण टूर्नामेंट को खत्म होने में काफी वक्त लगते थे। साल 1920 में टूर्नामेंट को छोटा करने के इरादे से आईओसी यानि इंटरनैश्नल ओलंपिक कमेटी ने कुछ खेलों को ओलंपिक से हटाने का निर्णय लिया। इसी के साथ सन् 1900 में शामिल हुआ रस्साकशी 1920 में ओलंपिक से हटा दिया गया।


शुरूआती दौर में रस्साकशी के खेल में 5 से 6 लोगों की टीमें होती थीं। इसमें एक काफी इंट्रेस्टिंग बात ये है कि जब इस खेल की शुरूआत हुई तो ओलंपिक में शामिल होने आए एथेलिटों को मिलाकर भी टीम बना ली जाती थी। इस खेल में पहला गोल्ड मेडल स्वीडन और डेनमार्क की टीम ने जीता था जिन्होंने साथ मिलकर इस खेल में हिस्सा लिया था।

इस खेल में शामिल होने वाले ग्रूप को क्लब कहा जाता था। एक देश के ग्रूप एक से अधिक क्लब में हिस्सा लेने के लिये आज़ाद थे। कोई भी खिलाड़ी किसी भी टीम के साथ खेल सकता था। जब साल 1904 में ओलंपिक खेल हुआ तो तीनों का तीनों पदक गोल्ड, सिल्वर और ब्रॉंज पर अमेरिका ने कब्ज़ा जमा लिया वहीं साल 1908 में ग्रेट ब्रिटेने ने तीनों पदकों को अपने नाम किया।

जब रस्साकशी खेल को ओलंपिक में शामिल किया गया तो सन् 1900 में स्वीडन/डेनमार्क की जोड़ी ने गोल्ड और फ्रांस ने सिल्वर पदक पर कब्ज़ा जमाया। साल 1904 में हुए ओलंपिक में अमेरिका सबसे ताक़तवर होने का सबूत देते हुए तीनों पदकों पर कब्ज़ा जमाया वहीं साल 1908 में ग्रेट ब्रिटेन ने तीनों पदकों को जीत लिया। साल 1912 के मुक़ाबले में स्वीडन ने गोल्ड और ग्रेट ब्रिटेन ने सिल्वर मेडल जीता तो वहीं रस्साकशी के खेल के अंतिम साल 1920 में ग्रेट ब्रिटेन गोल्ड, नीदरलैंड सिल्वर और बेल्जियम ब्रॉंज मेडल जीता।

GoFlashback: जब डेनिस लिली ने एल्युमीनियम बैट के साथ बल्लेबाज़ी की

हालांकि रस्साकशी के इस खेल को दोबारा ओलंपिक में शामिल करने की बातें उठती रहीं लेकिन अबतक इस खेल को दोबारा शामिल नहीं किया जा सका है। साल 1960 के बाद से खेल रस्साकशी के इस खेल की लोकप्रियता बढ़ाने के लिये इंटरनेशनल फेडरेशन हर साल कई स्तर पर इंटरनेशनल चैंपियनशिप का आयोजन करती है और इस खेल को दोबारा खेलों के महाकुंभ ओलंपिक में शामिल करने की कोशिशों में जुटी हैं।

ताज़ा वीडियो