भारत में मानवाधिकार को लेकर अमेरिकी रिपोर्ट क्या कहती है ?

by GoNews Desk 2 months ago Views 12655

What does the US report say about human rights in
अमेरिका ने बुधवार को भारत को लेकर 2021 की मानवाधिकार रिपोर्ट जारी की है जिसमें कई मुद्दों पर ध्यान आकर्षित किया गया है। जैसे - फ्री स्पीच पर प्रतिबंध, एनजीओ के रेगुलेशन, राज्य द्वारा उत्पीड़न पर ख़ासतौर पर ग़ौर किया गया है। 

अमेरिकी कांग्रेस को सौंपे गए मानवाधिकारों पर देश की रिपोर्ट की वार्षिक सीरीज के हिस्से के रूप में, 12 अप्रैल को राज्य सचिव एंटनी ब्लिंकन द्वारा रिपोर्ट जारी की गई थी।


6 अप्रैल को, कांग्रेस महिला इल्हान उमर ने पूछा था कि राष्ट्रपति जो बाइडन द्वारा भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी की कोई आलोचना क्यों नहीं की गई, उन्होंने पूछा: "मोदी को भारत की मुस्लिम आबादी के लिए क्या करने की ज़रूरत है, इससे पहले कि हम उन्हें शांति में भागीदार मानना बंद कर दें। ?"

मनमाना गिरफ्तारी, नजरबंदी

रिपोर्ट में मनमानी गिरफ्तारी और न्यायिक प्रक्रियाओं में देरी की बढ़ती घटनाओं पर ग़ौर किया गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि - हालांकि भारतीय क़ानून "मनमाने ढंग से गिरफ्तारी और नज़रबंदी पर रोक लगाता है लेकिन साल के दौरान गिरफ़्तारी और नज़रबंदी बड़े स्तर पर हुई है” और यह भी कहा गया है कि मनमाने ढंग से नज़रबंद किया गया और समय से ज़्यादा दिनों तक हिरासत में रखा गया - कभी-कभी दोषियों की दी गई सज़ा से ज़्यादा उन्हें सज़ा दी गई।”

रिपोर्ट के मुताबिक़ - देश भर में यूएपीए, पीएसए, और आलोचकों, असंतुष्टों और पत्रकारों के खिलाफ राजद्रोह जैसे क़ानूनों के इस्तेमाल में उल्लेखनीय बढ़ोत्तरी हुई है, विशेष रूप से त्रिपुरा में जहां मुस्लिम विरोधी हिंसा पर की गई रिपोर्टिंग पर यूएपीए के आरोप लगाए गए। रिपोर्ट में "गिरफ्तारी की न्यायिक समीक्षा को स्थगित करने के लिए विशेष सुरक्षा कानूनों" के इस्तेमाल पर भी ध्यान आकर्षित किया गया है।”

मनमानी गिरफ्तारी के कुछ उदाहरणों में जलवायु कार्यकर्ता दिशा रवि, मानवाधिकार कार्यकर्ता हिदमे मरकाम और जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की कई हाउस अरेस्ट शामिल हैं।

इसमें 2017 में दर्ज एल्गर परिषद मामले का भी ज़िक्र है, जिसके तहत 15 शिक्षाविदों और कार्यकर्ताओं पर यूएपीए के आरोप लगाए गए हैं, इसे एक क़ानून के रूप में देखते हुए कि "अदालतों को हिरासत में लिए गए नागरिकों के मामले में ज़मानत से इनकार करने की इजाज़त देता है", फादर स्टेन स्वामी की मृत्यु को ध्यान में रखते हुए "एक विशेष एनआईए [राष्ट्रीय जांच एजेंसी] अदालत ने मेडिकल आधार पर प्रस्तुत कई ज़मानत याचिकाओं को ख़ारिज कर दिया था और उनका निधन एक विचाराधीन क़ैदी के तौर पर हुआ।

अभिव्यक्ति की आजादी, मीडिया निशाने पर

अमेरिकी रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का 'आम तौर पर सम्मान' किया जाता है, लेकिन रिपोर्ट में मीडिया और सरकार या उसके समर्थन आधार की आलोचना करने वाले लोगों को डराने-धमकाने की बढ़ती घटनाओं का भी ज़िक्र है।

रिपोर्ट में दिए गए कुछ उदाहरणों में शामिल हैं:

  • मध्य प्रदेश पुलिस ने मुनव्वर फारूकी को हिंदू भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाले चुटकुले बनाने के आरोप में गिरफ्तार किया।
  • गोवा पुलिस ने एक भाजपा नेता की आलोचना करने के लिए एक सामाजिक कार्यकर्ता एरेन्ड्रो लीचोम्बम की गिरफ्तारी की
  • कश्मीरी शिक्षाविदों को विदेश यात्रा करने और सम्मेलनों में भाग लेने से रोकना
रिपोर्ट में "ऐसे उदाहरणों को झंडी दिखाई गई है जिसमें सरकार या सरकार के करीबी माने जाने वाले अभिनेताओं ने कथित तौर पर सरकार की आलोचना करने वाले मीडिया आउटलेट्स पर दबाव डाला या परेशान किया, जिसमें ऑनलाइन ट्रोलिंग भी शामिल है"।

पेगासस स्पाइवेयर मामले का ज़िक्र करते हुए, रिपोर्ट में कहा गया है कि यह प्रौद्योगिकी के आधिकारिक दुरुपयोग का एक उदाहरण है: जैसे - ”मनमाने ढंग से या गैरकानूनी रूप से सर्वेक्षण करने या लोगों की गोपनीयता में हस्तक्षेप करने के लिए प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करना”।

ईडी द्वारा एमनेस्टी इंडिया के बैंक खातों को फ्रीज करने और कॉमनवेल्थ ह्यूमन राइट्स इनिशिएटिव (सीएचआरआई) के एफसीआरए लाइसेंस को रद्द करने का भी रिपोर्ट में हवाला दिया गया है।

Read Full Story: US State Dept Releases Report On Human Rights Situation In India, Flags Arrests, Curbs On Speech, More

ताज़ा वीडियो