मुंबई पुलिस ने अर्नब गोस्वामी के खिलाफ दायर दूसरी चार्जशीट में क्या कहा?

by GoNews Desk 11 months ago Views 2933

Arnab Goswami

रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी की मुश्किलें कथित टीआरपी स्कैम में कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. दरअसल मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम ने मंगलवार को इस मामले में दूसरी सप्लीमेंट्री चार्जशीट दाखिल की है. पुलिस की दाखिल 1,912 पेज की दूसरी चार्जशीट में भी गस्वामी को स्कैम का आरोपी बताया गया है.

उनके अलावा इसमें छह और लोगों का नाम जोड़ा गया है. चार्जशीट में शामिल 6 लोगों में से चार लोग रिपब्लिक टीवी ग्रुप से  जुड़े हैं जबकि 2 का संबंध महा मूवी चैनल से है. पुलिस ने अब तक टेलीविजन रेटिंग प्वाइंट से छेड़छाड़ के मामले में 22 लोगों को आरोपी बनाया है. 

मामला कुछ इस तरह है कि हंसा रिसर्च ग्रुप नाम की कंपनी की शिकायत पर पिछले साल 6 अक्टूबर को कांदिवली पुलिस स्टेशन में एक एफआईआर दर्ज की गई थी. इस कंपनी को भारत में टेलीविजन मैनेजमेंट सिस्म को देखने वाली इंडस्ट्री कंपनी ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (BARC) ने कटन्ट्रैक्ट दिया था.

कपंनी ने अपने कुछ रिलेशनशिप मेनेजर्स के खिलाफ टीवी रेटिंग से छेड़छाड़ कर कुछ चैनल को अपनी टीवी रेंटिंग बढ़ाने में मदद करने के लिए शिकायत दर्ज कराई थी. शिकायतकर्ता ने कुछ टीवी चैनल पर भी ये आरोप लगाया था कि उन्होंने रिलेशनशिप मेनेजर्स के साथ मिल कर टीआरपी से हेराफेरी की है. पुलिस ने अपनी 

दूसरी चार्जशीट में आर भारत प्रमुख समेत अन्यों के खिलाफ अतिरिक्त दस्तावेज़ दायर करे हैं. पुलिस ने ये भी आरोप लगाया है कि टीआरपी मापने के लिए घरों में लगाए गए बार्क के बार-ओ-मीटर को भी रिपब्लिक टीवी और हंसा रिसर्च ग्रुप के रिलेशनशिप मेनेजर्स ने रिश्वत दी थी. 

इस मामले में केस दर्ज होने के बाद पुलिस ने 24 नवंबर को पहली सप्लीमेंट्री चार्जशीट दाखिल की थी. शिकायत दर्ज होंने के बाद मामला क्राइम ब्रांच युनिट को सौंप दिया गया था जिसने अपनी जांच में टीआरपी में तीन तरह से छेड़छाड़ के तरीकों को पाया था. इसमें कुछ टीवी चैनलों को एक विशेष समय के लिए देखने के लिए पैसों का भुगतान करने जैसे तरीके शामिल थे. 

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक टीआरपी से हेरफेर करने के मामले में शामिल बॉक्स सिनेमा, फास्ट मराठी, महामूवी, रिपब्लिक टीवी और रिपब्लिक भारत के प्रतिनिधियों के खिलाफ पहले से ही मामला दर्ज किया जा चुका था.

टेलिविजन रेटिंग प्वाइंट मामले में अर्नब गोस्वामी की मुश्किलें तब बढ़ गई जब पुलिस के हाथ उनके और बार्क के पूर्व सीईओ पार्थो दासगुप्ता के बीच हुई व्हाट्सएप चैट लगी जिसमें वह लगातार न्यूज चैनल को फायदा पहुंचाने की बात कर रहे हैं. वहीं पुलिस ने दावा किया है कि गोस्वामी ने जांच के दौरान पूछताछ में कथित तौर पर उस व्हाट्सएप चैट के सच होंने की बात स्वीकारी है.

ताज़ा वीडियो