'उड़ता इंडिया ?' : हेरोइन 300 फीसदी, अफीम 172 फीसदी और गांजे की ज़ब्ती में 191 फीसदी का उछाल !

by M. Nuruddin 4 months ago Views 1653

'Udta India?' : seizure of Heroin 300 percent, opi
भारत में नशे का क़ारोबार रॉकेट की रफ़्तार से बढ़ रहा है। पिछले पांच सालों के दरमियान नशीली पदार्थों की भारी स्तर पर ज़ब्ती से यह अंदाज़ा लगाया जा सकता है। देश में 2017-21 के दौरान नशीले पदार्थ (हेरोइन) की ज़ब्ती में 300 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई। यह जानकारी ख़ुद इसपर लगाम लगाने के लिए शुरू की गई संस्था नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने दी।

एनसीबी के महानिदेशक एसएन प्रधान ने बताया कि भारत में 2021 में 7,282 किलोग्राम हेरोइन की ज़ब्ती हुई, जबकि 2017 में एनसीबी ने 2,146 किलोग्राम हेरोइन बरामद किए थे।


इसी तरह, अफीम की ज़ब्ती में 172 फीसदी का उछाल आया। मसलन अफीम की ज़ब्ती 2017 में 2,551 किलोग्राम के मुक़ाबले 2021 में 4,386 किलोग्राम रहा। इसी तरह बड़े पैमाने पर गांजे भी ज़ब्त किए गए हैं।

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के मुताबिक़ 2017 में 3,52,539 किलोग्राम गांजे ज़ब्त किए गए जबकि 2021 में यह बढ़कर 6,75,631 किलोग्राम हो गया। अगर प्रतिशत में देखें तो यह 191 फीसदी का उछाल है।

बड़े पैमान पर हालिया बरामदगी !

पिछले साल सितंबर 2021 में ही गुजरात के मुंद्रा पोर्ट पर करीब तीन हज़ार किलोग्राम हेरोइन बरामद किए गए। जांच के बाद बताया गया कि इतनी बड़ी मात्रा में हेरोइन इरान के रास्ते अफ़ग़ानिस्तान से भारत पहुंचा था।

एनसीबी के आंकलन से पता चला की ज़ब्त की गई हेरोइन की कीमत 19,000 करोड़ रूपये थी।

इसी तरह जुलाई 2021 में नवी मुंबई में न्हावा शेवा पोर्ट पर 300 किलोग्रामा हेरोइ ज़ब्त किए गए। अगस्त 2020 में भी करीब 200 किलोग्राम इसी नशीली पदार्थ की ज़ब्ती हुई जो पाकिस्तान के ग्वादर से इरान के ही रास्ते भारत पहुंचा था।

नाबालिग़ नशे का शिकार !

Gonewsindia ने आपको सरकारी आंकड़ों के हवाले से बताया था कि देश में बड़े पैमाने पर नाबालिग नशे का शिकार हैं। सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के 2018 के आंकड़ों के मुताबिक देश में 3 करोड़ 10 लाख लोग गांजे का सेवन करते हैं। इनमें 20 लाख ऐसे हैं जिनकी उम्र 10 से 17 साल के बीच है।

इसी तरह 2.5 करोड़ लोग अफीम का सेवन करते हैं जिनमें भी 40 लाख नाबालिग हैं। नींद की गोलियां खाने वालों की संख्या 1 करोड़ 30 लाख है और इनमें 20 लाख नाबालिग हैं।

तकरीबन 90 लाख लोग वाइटनर फ्लूइड का नशा करते है जिनमे 30 लाख नाबालिग हैं। देश में करीब 12 लाख लोग सबसे महंगे नशे में शुमार कोकेन का सेवन करते है। इनमें भी 2 लाख नाबालिग शामिल हैं।

कुल मिलाकर कहें तो 8 करोड़ 38 लाख (2018 तक) भारतीय ड्रग्स की लत में डूबे हुए हैं। प्रतिबंधित नशीली ड्रग्स के अलावा करोड़ों भारतीय शराब, सिगरेट और तंबाकू का नशा करते हैं। इससे पता चलता है कि देश की बड़ी आबादी नशे की चपेट में है लेकिन उन्हें इससे बाहर निकालने पर कोई सुगबुगाहट नहीं दिखती।

ताज़ा वीडियो