तिरुपति: बालाजी मंदिर में अब तक 743 स्टाफ कोरोना संक्रमित लेकिन दर्शन पर रोक नहीं

by Ankush Choubey 1 year ago Views 2173

Tirupati: 743 staff corona infected so far in Bala
आंध्रप्रदेश के मशहूर तिरुपति बालाजी मंदिर में तमाम कोशिशों के बावजूद कोरोना का संक्रमण नहीं थम रहा है. इस मंदिर में दर्शन की वजह से अब तक 743 स्टाफ कोरोना की चपेट में आ चुके हैं जबकि एक पुजारी समेत तीन लोगों की मौत हो चुकी है. लगातार कोरोना मरीज़ों के सामने आने पर भी मंदिर प्रबंधन का दर्शन पर रोक लगाने का कोई इरादा नहीं है. 8 अगस्त को मंदिर में साढ़े आठ लाख लोगों ने भगवान का दर्शन किया.

तिरुपति बालाजी का मंदिर लॉकडाउन के 80 दिनों बाद 11 जून को खोला गया था जिसके बाद से यहां लाखों भक्त दर्शन कर चुके हैं. सिर्फ जुलाई महीने देश के कोने कोने से दो लाख 38 हज़ार लोग भगवान वेंकटेश्वर के दर्शन के लिए पहुंचे थे. शुरू में दर्शन करने वालों की संख्या 12 हज़ार तय की गयी थी लेकिन अभी हर दिन नौ हज़ार भक्तों को भगवान के दर्शन की इजाज़त है.


तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम के कार्यकारी अधिकारी अनिल कुमार सिंघल ने कहा कि जब दर्शन के लिए मंदिर को खोला गया तब इस फैसले की तारीफ हुयी थी. मगर कोरोना के मामले सामने आने के बाद लोगों ने इस फैसले की आलोचना शुरू कर दी कि मंदिर प्रबंधन ने दर्शन का फैसला पैसा कमाने के लिए किया था. सिंघल ने इस आरोप को ख़ारिज करते हुए कहा कि दर्शन से हो रही कमाई का इस्तेमाल कोरोना से बचने के उपायों पर हो रहा है. सिंघल ने कहा कि संक्रमित होने वाले मंदिर स्टाफ में  403 लोग ठीक होकर वापस काम से जुड़ गए हैं और 335 लोगों का अभी भी इलाज चल रहा है.

मंदिर प्रबंधन के मुताबिक तिरुपति में कोरोना संक्रमण बढ़ने के चलते भक्तों की संख्या में कुछ कमी आयी थी लेकिन पिछले तीन दिनों से संख्या बढ़ने लगी है. आठ अगस्त को साढ़े आठ हज़ार भक्त दर्शन के लिए पहुंचे जबकि लक्ष्य नौ हज़ार का रखा गया था. देश भर में कोरोना के मामले बढ़ने पर ऐसे लोग दर्शन के लिए नहीं पहुंच पा रहे हैं जिनके इलाके रेड ज़ोन में आ गए हैं. ऐसे लोगों ने बुकिंग पर हज़ारों रुपये खर्च किये थे. मंदिर प्रबंधन ने कहा है कि बुकिंग का पैसे रिफंड नहीं होगा क्योंकि रिफंड की सुविधा सिर्फ लॉकडाउन के दौरान ही थी.

मंदिर में कोरोना के मामले लगातार आने पर  ट्रेड यूनियन सीटू और वर्कर्स यूनाइटेड फ्रंट ने दर्शन रोकने की अपील की थी लेकिन मंदिर प्रबंधन ने कहा है कि दर्शन नहीं रोका जायेगा।

ताज़ा वीडियो