हमले के बाद ननकाना साहिब में हालात सुधरे

by Rahul Gautam 4 months ago Views 1833
Things improved in Nankana Sahib after the attack
पाकिस्तान में सिखों के पवित्र स्थल ननकाना साहिब गुरूद्वारा के गेट पर हुए हमले के बाद दिल्ली में पाकिस्तानी उच्चायोग के बाहर समेत कई जगहों पर विरोध प्रदर्शन हुआ. वहीं पाकिस्तान में एकजुटता दिखाने के लिए तमाम धार्मिक संगठनों ने ननकाना साहिब गुरुद्वारा प्रबंधन से मुलाक़ात की है.

पाकिस्तान में सिखों के सबसे पवित्र स्थल ननकाना साहिब गुरुद्वारा के बाहर हुए झगड़े ने सांप्रदायिक रंग ले लिया था जिसकी वजह से पाकिस्तान सरकार को तीखी आलोचना का सामना करना पड़ा. हालांकि घटना के एक दिन बाद यानी शनिवार को ननकाना साहिब हालात में तेज़ी से सुधार हुआ और गुरुद्वारा में रोज़ाना की तरह कीर्तन चलता रहा. इस घटना के बाद एकजुटता दिखाने के लिए मुस्लिम धर्मगुरुओं और मुक़ामी नेताओं ने ननकाना साबित जाकर गुरुद्वारा प्रबंधन से मुलाक़ात की. गुरुद्वारा प्रबंधन से मिलने वालों में सूफ़ी मियां मीर के गद्दीनशीं सायन अली रज़ा भी शामिल थे.

Also Read: 'सूर्य से ओम् की आवाज़ निकलती है', पूर्व आईपीएस किरण बेदी के दावे में कितनी सच्चाई?

हालांकि इस घटना पर सांप्रदायिक के साथ-साथ सियासी रंग भी चढ़ गया है. दिल्ली में पाकिस्तान उच्चायोग के बाहर शिरोमणि अकाली दल, दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया है. केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पूरी ने कहा है कि ननकाना साहिब के बाहर हुई घटना पाकिस्तान में अलपसकयांको के ऊपर होने वाले अत्याचार का सबूत है और जो लोग नागरिकता कानून का विरोध कर रहे हैं, उन्हें अब इस घटना के बाद लोगो को बहकाना बंद कर देना चाहिए। भारतीय विदेश मंत्रालय ने इस घटना की निंदाकर कार्रवाई की मांग की है लेकिन पाकिस्तान का कहना है कि यह दो लोगों के बीच का आपसी झगड़ा था जिसे सांप्रदायिक रंग दे दिया गया.

वीडियो देखिये

ननकाना साहिब पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में है. यहां एक शख़्स अपने समर्थकों के साथ नारेबाज़ी कर रहा है और लोग तमाशबीन बने हुए हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गुरुद्वारे के गेट पर पत्थर चलाए गए और धार्मिक टिप्पणी भी की. घटना के वक़्त करीब 25 सिख गुरूद्वारे के अंदर मौजूद थे और सभी सुरक्षित हैं. इस बीच शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी ने कहा है कि वह पूरे मामले की छानबीन के लिए चार लोगों का एक दल पाकिस्तान भेजेगा।