ads

किसानों का क़ाफिला दिल्ली की ओर, बोले- घेरा डालेंगे, डेरा डालेंगे

by Ankush Choubey 2 months ago Views 1018

The convoy of the farmers towards Delhi, speak - e
केंद्र सरकार के नये कृषि कानूनों के खिलाफ गुरुवार से किसानों का देशव्यापी प्रदर्शन शुरु हो गया है। साथ ही पंजाब और हरियाणा समेत कई राज्यों के किसानों द्वारा दिल्ली कूच भी किया जा रहा है। हरियाणा, पंजाब बॉर्डर से बुधवार को ही किसानों ने दिल्ली कूच किया था और कई जगह उन्हें रोकने के लिए वाटर कैनन का भी इस्तेमाल किया गया। 

किसानों का कहना है कि वो केंद्र द्वारा लाए गए कानूनों के खिलाफ हैं जो आने वाले समय में अनाज मंडियों और एमएसपी को ख़त्म कर देंगे। उन्होंने कहा कि वे एक महीने के राशन के साथ आए हैं। किसानों ने अपने प्रदर्शन में नारा दिया है, घेरा डालो, डेरा डालो।


दिल्ली चलो मार्च को देखते हुए पुलिस ने सीमा पर सख्ती तेज कर दी है। दिल्ली पुलिस के साथ-साथ अर्द्धसैनिक बल के जवानों की भी तैनाती की गई है। दिल्ली पुलिस के 1200 जवान बॉर्डर पर तैनात किए गए हैं और 12 कंपनी फ़ोर्स बाहर से बुलाई गई है, जिनमे सीआरपीएफ और आरएएफ के जवान हैं। किसानों के प्रदर्शन के कारण बड़ी भीड़ जुटने का अनुमान है air कोरोना का खतरा भी है।  ऐसे में दिल्ली मेट्रो ने अपनी सर्विस में कुछ बदलाव कर दिया है।

गुरुवार  दोपहर दो बजे तक मेट्रो दिल्ली से गुरुग्राम और नोएडा की सीमा को पार नहीं करेंगी।  वहीं सिंघू बॉर्ड (दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर) पर भी पुलिस बल की तैनाती है और ड्रोन से नज़र रखा जा रहा है। पुलिस ने जगह-जगह पर बैरिकेडिंग लगाई हुई है। 

दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर भारी सुरक्षाबल तैनात है, यहां पर ड्रोन कैमरे से भी प्रदर्शन पर नजर रखी जा रही है। हरियाणा में भी करनाल के पास पुलिस ने बैरिकेटिंग की है।

दिल्ली-फरीदाबाद बॉर्डर पर सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम किए गए हैं। फरीदाबाद पुलिस का  कहना है, हमें स्पष्ट निर्देश है कि भारतीय किसान यूनियन के किसी भी सदस्य को आज और कल दिल्ली में प्रवेश न करने दें। सभी महत्वपूर्ण प्रवेश प्वाइंट्स पर पुलिस की टीमें तैनात हैं।

वहीँ किसान आंदोलन की वजह से दिल्ली-चंडीगढ़ राजमार्ग बाधित रहेगा। हरियाणा में करनाल के कर्ण झील के पास भारी सुरक्षा बलों की तैनाती कर दी गई है।सुरक्षा बल अपने हाथों में लाठी-डंडों के साथ तैयार हैं। बताया जा रहा है कि सुरक्षा बलों को निर्देश है कि वे किसी भी तरह किसान मार्च को दिल्ली में प्रवेश से रोकें।  

इस बीच किसान संगठनों ने आरोप लगाया है कि दिल्ली के लिए रवाना की गई राशन से लदीं 40 ट्रालियों को हरियाणा सरकार ने बार्डर पर रोक लिया है।  इस सब के बीच पुलिस ने आंदोलन को कमजोर करने के लिए किसान नेताओं को हिरासत में लेना शुरू कर दिया।

हरियाणा में फतेहाबाद, हिसार, झज्जर, सिरसा समेत कई स्थानों पर छापेमारी करके पुलिस ने 100 किसान नेताओं को गिरफ्‍तार किया है। साथ ही सोशल एक्टिविस्ट मेधा पाटकर को आगरा-धौलपुर बॉर्डर पर रोक लिया गया। वह कार्यकर्ताओं के साथ कार से रात नौ बजे पहुंची थीं।

ताज़ा वीडियो