सोनार बांग्ला ! बीजेपी की रैलियों में कुर्सियां खाली, कार्यालयों में नाराज़ कार्यकर्ताओं की तोड़फोड़

by M. Nuruddin 1 year ago Views 2903

'क्या ममता बनर्जी शासन को पटखनी देने की उम्मीद पाले बैठी भाजपा ने उस गति को खो दिया है जिसमें वो मस्त थी ?'

Sonar Bangla! Chairs vacant in BJP rallies, ransac
पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में मानो बीजेपी की रफ़्तार ही कम हो गई है। जैसे-जैसे चुनाव नज़दीक आ रहे हैं पार्टी नेतृत्व की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। पहले रैलियों में कम भीड़ और अब पार्टी कार्यकर्ताओं की नाराज़गी। टिकट बंटवारे को लेकर स्थानीय कार्यकर्ताओं और कुछ नेताओं में असंतोष पैदा हो गया है। हालात यह है कि भीड़ नहीं होने से रैलियां भी रद्द करनी पड़ रही है।

ख़बर यह है कि टिकट बंटवारे से नाराज़ पार्टी कार्यकर्ताओं ने कई शहरों में पार्टी कार्यालय के भीतर तोड़फोड़ की है। जबकि दो उम्मीदवार ऐसे हैं जिन्होंने टिकट मिलने के बाद भी चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया है। कई उम्मीदवारों के नाम का ऐलान होने के बाद कार्यकर्ताओं में नाराज़गी है और आरोप लगा रहे हैं कि पार्टी ने हाल ही में बीजेपी में आए नेताओं को टिकट बांट दिया है जबकि वर्षों से बीजेपी में रहे नेताओं की अनदेखी की गई।


आरोप यह भी लग रहे हैं कि जो लोग टीएमसी से भाजपा में आए हैं, उनमें से कई तो भाजपा कार्यकर्ताओं पर अत्याचार भी करते रहे हैं। कार्यकर्ताओं की नाराज़गी को लेकर आलाकमान ने राज्य इकाई के साथ बैठक भी की और इसे जल्द से जल्द हल करने के भी निर्देश दिए।

पार्टी कार्यकर्ताओं का विरोध

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ गुरूवार को जब बीजेपी ने 148 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी की तो पार्टी को विरोध का सामना करना पड़ा। मसलन जलपाईगुड़ी विधानसभा क्षेत्र से सुजित सिंघा को पार्टी ने मैदान में उतारा है। इसके विरोध में पार्टी कार्यकर्ताओं ने जलपाईगुड़ी में पार्टी कार्यालय के भीतर तोड़फोड़ की और पोस्टर फाड़ डाले। कहा जा रहा है कि ऐसा पुराने नेताओं को टिकट नहीं मिलने से नाराज़ कार्यकर्ताओं ने किया है।

इसी तरह जगदलपुर विधानसभा क्षेत्र से अरिंदम भट्टाचार्य को टिकट दिए जाने से नाराज़ कार्यकर्ताओं ने भी विरोध-प्रदर्शन किया और कार्यालय में तोड़फोड़ भी की। इतना ही नहीं मालदा के हरिशचंद्रपुर में भी पार्टी कार्यालय में तोड़फोड़ हुई। इसी तरह कोलकाता में बीजेपी ऑफिस के सामने में पूरे दिन हंगामा हुआ।

पार्टी कार्यकर्ता टिकट बंटवारे से नाराज थे। इसके अलावा दुर्गापुर, दमदम, चोचुड़ा में भी कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। पार्टी कार्यालय के भीतर भी तोड़फोड़ की गई। कई जगह तो बीजेपी कार्यकर्ताओं ने विरोध में रास्ते को ही बंद कर दिया।

चुनाव लड़ने को तैयार नहीं

बीजेपी ने चौरंगी विधानसभा सीट से शिखा मित्रा को टिकट दिया था लेकिन उन्होंने चुनाव लड़ने से ही इनकार कर दिया। उन्होंने बताया कि उन्होंने बीजेपी को इस बारे में बताया भी था कि वो चुनाव नहीं लड़ना चाहती हैं। इसके बावजूद बीजेपी ने उनके नाम की अचानक घोषणा कर दी।

शिखा मित्रा पश्चिम बंगाल कांग्रेस के अध्यक्ष रहे सोमेन मित्रा की पत्नी हैं। उन्होंने यहां तक कहा कि शुरु से कांग्रेस में रही हैं अचानक बीजेपी में कैसे चली जाएं। इसी तरह बेलगछिया सीट के लिए घोषित उम्मीदवार तरुण साहा ने भी यह कहते हुए चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया कि उन्होंने भाजपा को पहले ही सूचित कर दिया था।

रैलियों में भीड़ नहीं !

माना जाता है कि बीजेपी सभा आयोजित करने और उसपर ख़र्च करने में सबसे आगे है लेकिन इसके बावजूद अगर लोग न आएं तो सभा रद्द होना तो तय है। 15 मार्च को पश्चिम बंगाल के झारग्राम ज़िले में गृह मंत्री अमित शाह की सभा होनी थी लेकिन हेलिकॉप्टर में अचानक टेक्निकल ख़राबी आ गई और सभा रद्द करनी पड़ी। हालांकि इसके बाद टीएमसी समेत विपक्ष के कार्यकर्ताओं ने खाली कुर्सियों की तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर करना शुरु कर दिया। आरोप लगे कि खाली कुर्सी और भीड़ नहीं जुटने से गृह मंत्री को अपनी सभा रद्द करनी पड़ी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ पश्चिम बंगाल के चुनावी अभियान में बीजेपी ने कई केन्द्रीय मंत्रियों को उतार दिया है। बीते दिनों राज्य में केन्द्रीय मंत्री स्मृति इरानी, राजनाथ सिंह और नितिन गडकरी ने चुनावी सभाओं को संबोधित किया लेकिन जानकार कहते हैं कि एक हाई लेवल पब्लिक मीटिंग में जिस हिसाब से भीड़ जुटनी चाहिए थी वो नहीं दिखी। इतना ही नहीं उत्तर प्रदेश के योगी आदित्यनाथ भी अपने ‘हिंदुत्व’ के एजेंडे के साथ पश्चिम बंगाल के चुनावी अभियान में सभाएं कीं लेकिन लेकिन, इन दिग्गजों की जनसभा में बहुत कम उपस्थिति देखने को मिला है।

राज्य में ऐसे हालात को देखकर राजनीतिक जानकार यहां तक सवाल उठा रहे हैं कि क्या ममता बनर्जी शासन को पटखनी देने की उम्मीद पाले बैठी भाजपा ने उस गति को खो दिया है जिसमें वो मस्त थी ?

ताज़ा वीडियो