जून में रिटेल बिक्री बढ़ी लेकिन स्लोली-स्लोली

by GoNews Desk 1 week ago Views 1646

Retail sales up in June but slowly-slowly
राज्यों में लॉकडाउन के खुलने से रिटेल बिक्री में रिकवरी तो देखी जा रही है लेकिन अब भी कोविड के पूर्व स्तर के मुक़ाबले यह आधी है। सबसे ज़्यादा रिकवरी फूड एंड ग्रोसरी और क्विक सर्विस रेस्टोरेंट में देखने को मिली है। मसलन जून महीने में पूरे भारत में रिटेल बिक्री 2019 के मुक़ाबले 50 फीसदी कम रही। यह जानकारी रिटेलर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के हालिया सर्वेक्षण से पता चली है। 

हालांकि, आरएआई सर्वेक्षण के मुताबिक, उद्योग ने भी मई की तुलना में प्रगतिशील सुधार किया है। खुदरा विक्रेताओं ने 2019 में इसी अवधि की तुलना में मई में 79 फीसदी की बिक्री में गिरावट दर्ज की थी और इस दौरान देश में महामारी की दूसरी लहर अपने चरम की ओर थी। 


रिटेलर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के सीईओ कुमार राजगोपालन ने कहा, "खुदरा कारोबार पर दबाव बना हुआ है और परिचालन के सीमित समय और वीकेंड पर बंद होने के कारण इसे बनाए रखना मुश्किल हो रहा है।"

सर्वेक्षण से पता चलता है कि उत्तर भारत में बेहतर रिकवरी देखने को मिली है। मसलन मई महीने में पूरे भारत में कोविड के पूर्व स्तर की तुलना में बिक्री करीब 80 फीसदी कम थी।

जबकि जून में यह आंकड़ा 50 फीसदी के आस-पास पहुंच गया है। आंकड़ों के मुताबिक़ उत्तर भारत में मई महीने में कोविड पूर्व के मुकाबले जहां रिटले की बिक्री 83 फीसदी कम थी वो जून में 43 फीसदी पर आ गया है। 

इनके अलावा पश्चिम में यह 50 फीसदी, दक्षिण में भी 50 फीसदी और पूर्वी भारत में यह 55 फीसदी कम दर्ज की गई है। '

सर्वेक्षण के मुताबिक़ क्विक रेस्टोरेंट सर्विस या क्यूएसआर की रिटेल बिक्री में बड़ी भागीदारी रही। यानि 2019 के मुक़ाबले यह जून महीने में सिर्फ 10 फीसदी कम रही, जबकि मई महीने में इसमें 70 फीसदी तक की गिरावट आई थी।

फूड और ग्रोसरी जो इसेंशियल में आते हैं, वो लॉकडाउन में कम प्रभावित हुए हैं, इनमें कोविड के पूर्व स्तर के मुक़ाबले जून महीने में 7 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। सर्वेक्षण में कहा गया है कि खेल के सामान और आभूषण की बिक्री में क्रमशः 66 प्रतिशत और 64 फीसदी की गिरावट के साथ जून महीने में सबसे अधिक प्रभावित रही। 

सर्वेक्षण के मुताबिक़, अपैरल और क्लोदिंग जून महीने में 52 फीसदी कम रही जबकि यह मई में कोविड के पूर्व स्तर के मुक़ाबले 77 फीसदी कम रही थी। 

ताज़ा वीडियो

ताज़ा वीडियो

Facebook Feed