फल और सब्ज़ी की पैदावार में रिकॉर्ड बढ़त, अनाज से ज़्यादा उगाई जा रही फल-सब्ज़ी

by GoNews Desk 1 year ago Views 1853

horticulture production in india

देश में अब बागवानी फसलों का भी रिकॉर्ड उत्पादन हो रहा है। कृषि मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़े बताते हैं कि साल 2020-21 के दौरान बागवानी फसलों का उत्पादन भी करीब 327 मिलियन टन के साथ उच्चतम स्तर पर पहुँच गया। बागवानी फसलों जैसे फल, सब्ज़ियाँ और ओषधीय पेड़-पोधौं के उत्पादन में अनुमानित 2 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है। 
फलों में आम जबकि सब्ज़ियों में आलू का उत्पादन सबसे ज़्यादा रहा। आलु का उत्पादन पिछले साल के मुक़ाबले दस फीसदी ज़्यादा रहा। इस बढ़ोत्तरी के साथ कुल सब्ज़ियों के उत्पादन में आलू का अनुमानित 194 मिलियन टन उत्पादन हुआ।

आलु का उत्पादन 2019-20 में 48.56 मिलयिन टन के मुकाबले वित्तीय वर्ष 2020-21 में 53.11 मिलियन टन हुआ है। जबकि टमाटर का उत्पादन 2020-21 में  2019-20 की तुलना में 1 मिलियन टन कम हो गया है। प्याज़ के उत्पादन में हल्की वृद्धि हुई है। 2020-21 में इसका उत्पादन बढ़ कर 26.29 मिलियन टन हुआ जबकि बीते साल ये 26.09 मिलियन टन था।  2020-21 में फलों का कुल उत्पादन 103 मिलियन टन रहा। 

पिछले साल के मुकाबले फलों के उत्पादन में 1 मिलियन टन की वृद्धि दर्ज की गई है। 2019-20 में फलों का उत्पादन 102 मिलियन टन दर्ज किया गया था जबकि इस साल ये 103 मिलियन टन रहा। भारत में फलों का राजा कहे जाने वाले आम का उत्पादन इस साल 4 प्रतिशत तक की वृद्धि के साथ 21 मिलियन टन हुआ। आम के अलावा केले के उत्पादन में भी वृद्धि देखी गई। 2019-20 में केले का उत्पादन 32.5 मिलियन टन था जबकि 2020-21 में इसका उत्पादन 33.7 मिलियन टन रहा।

पिछले कुछ सालों के आँकड़ों पर नज़र डाले तों पता चलता है कि बीते सालों में भारत में फल और सब्ज़ियों का उत्पादन खाद्यान्न उत्पादन को पीछे छोड़ रहा है। यही नहीं इन सालों में बागवानी फसलों के क्षेत्रफल में वृद्धि दर्ज की गई है। 2016-17 में बागवानी फसलों का उत्पादन 301 मिलियन टन था। 2017-18 में ये बढ़कर 307 मिलयिन टन हुआ फिर 2018-19 में इन फसलों का उत्पादन 311 मिलयिन टन था। 2019-20 में  बागवानी फसलों का उत्पादन  321 मिलयिन टन रहा। 2020-21 में एक बार फिर इसके उत्पादन में वृद्धि दर्ज की गई और उत्पादन 326.58 मिलयिन टन रहा वहीं खाद्यान्न के उत्पादन पर नज़र डाले तो 2016-17 में ये 275 मिलयिन टन था। 2017-18 में इसका उत्पादन 285 मिलियन टन हुआ। इसके अगले साल में खाद्यान्न के उत्पादन में कोई वृद्धि दर्ज नहीं की गई और 2019-20 में खाद्यान्न का उत्पादन बढ़कर 297 मिलयिन टन हुआ और वित्तीय वर्ष 2020-21 में इसका उत्पादन अनुमानित 203 मिलयन टन दर्ज किया गया।

भले ही खाद्यान्न का उत्पादन देश में बागवानी फसलों के उत्पादन से कम हो लेकिन पिछले साल के मुकाबले इस साल इसके उत्पादन में 2 प्रतिशत वृद्धि हुई है। देश में ये खाद्यान्न उत्पादन का रिकॉर्ड उच्च स्तर है। जारी आँकड़ों के अनुसार पिछले सालों में बागवानी फसलों के क्षेत्रफल में भी वृद्धि हुई है। 2018-19 में ये क्षेत्रफल 25.7 मिलियन हेक्टेयर था। 2019-20 में ये बढ़कर 26.5 मिलियन हेक्टेयर हुआ वहीं 2020-21 में ये क्षेत्रफल बढ़ कर 27.2 मिलियन हेक्टेयर हो गया है।

ताज़ा वीडियो