हाथरस कांड के विरोध की आग विदेश पहुंची, अमेरिका और लंदन में प्रदर्शन

by M. Nuruddin 1 year ago Views 1915

protest over Hathras incident in abroad, demonstra
उत्तर प्रदेश के हाथरस में हुई दलित महिला के साथ दरिंदगी के खिलाफ अब विदेश में आवाज़ उठ रही है। अंतर्राष्ट्रीय मीडिया तो पहले ही इस घटना की तीखी आलोचना कर रहा है मगर अब पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के लिए विदेश में एक मुहिम भी चल पड़ी है।

मसलन अमेरिका की मशहूर हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के छात्रों ने बीती रात हाथरस में हुई घटना के विरोध में प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में लोग बैनर लेकर शामिल हुए जिसमें जातिवाद से पनपती हिंसा की मुखालफ़त की गई थी। छात्रों ने मोमबत्ती जलाकर पीड़ित परिवार के लिए इंसाफ की मांग की।


इसके अलावा शुक्रवार को ही ब्रिटिश संसद में लेबर पार्टी की सांसद अप्साना बेग़म समेत 30 से ज़्यादा महिला, दलित और अन्य प्रवासी संगठनों ने हाथरस बर्बरता को लेकर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग को चिट्ठी लिखी है।

संयुक्त राष्ट्र को लिखी गई चिट्ठी में हाथरस कांड की जांच के लिए एक अंतराष्ट्रीय पैनल के गठन की मांग की गई है। साथ ही यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री पद से हटाने की भी मांग की गई है। ब्रिटिश सांसद और अन्य संगठनों ने आरोप लगाया कि साल 2014 के बाद से भारत में दलितों और महिलाओं के ख़िलाफ अपराध में बढ़ोत्तरी हुई है।

ध्यान रहे, पिछले कुछ दिनों में एक के बाद एक दलित समाज की महिलाओं के साथ बलात्कार की घटनाएँ सामने आई है। इसी के चलते ब्रिटेन में बसे दलित समाज के लोगों ने नेशनल वाल्मिकी सभा के बैनर तले भारतीय दूतावास के सामने विरोध-प्रदर्शन का ऐलान किया है।

बताया जा रहा है कि आने वाले दिनों में दुनिया के कई शहरों में हाथरस मामले और दलितों के खिलाफ हो रही हिंसा के खिलाफ प्रदर्शन देखने को मिल सकते हैं।

इसके इतर विदेशी मीडिया में इस सबके चलते पहले ही देश की साख पर बट्टा लग रहा है। ज़ाहिर है, विदेशों में हो रहे ऐसे प्रदर्शनों और छप रही खबरों से भारत की छवि को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर धक्का पहुंच रहा है। ऐसे में सरकार को चाहिए की तुरंत कार्रवाई करे और ऐसे घटनाओं को दोबारा ना होने देने के लिए ठोस कदम उठाए।

ताज़ा वीडियो