2019-20 में इंडियन कॉर्पोरेट्स ने इलेक्टोरल ट्रस्टों को दिए रिकॉर्ड 363.5 करोड़

by M. Nuruddin 11 months ago Views 2197

Political Donors To Electoral Trusts In 2019-20, A
इलेक्टोरल ट्रस्टों के माध्यम से राजनीतिक दलों को मिलने वाले चंदा में वित्त साल 2020 के दौरान रिकॉर्ड बढ़त देखी गई है। ट्रस्ट को सबसे ज़्यादा जेएसङब्ल्यू ग्रुप और इंडियाबुल्स जैसे बड़े ग्रुप ने मोटी रकम दिए हैं। यह जानकारी एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स ने अपनी एक ताज़ा रिपोर्ट में दी है।

रिपोर्ट के मुताबिक भारत में सात चुनावी ट्रस्टों द्वारा बताया गया योगदान 2019-20 में बढ़कर 363.5 करोड़ रुपये हो गया, जो पिछले साल की तुलना में 44  फिसदी ज़्यादा है। यह साल 2013 के बाद से चुनावी ट्रस्टों को प्राप्त सबसे बड़ी रकम है।


इलेक्टोरल ट्रस्ट गैर-सरकारी संगठन हैं जो चंदा इकट्ठा कर राजनीतिक दलों में वितरित करने का काम करता है। यह उन कई टूल्स में एक है, जिनका कॉर्पोरेट कंपनियां राजनीतिक चंदा देने के लिए इस्तेमाल करती है। ट्रस्टों के अलावा, कंपनियां प्रत्यक्ष योगदान या अपारदर्शी चुनावी बांड के माध्यम से भी राजनीतिक दलों को चंदा देती हैं।

रिपोर्ट में बताया गया है कि जेएसडब्ल्यू स्टील लिमिटेड चुनावी ट्रस्टों को सबसे बड़ा दानदाता रहा, जिसने 39.1 करोड़ रुपये दिए। इसके बाद अपोलो टायर्स लिमिटेड 30 करोड़ रुपये, इंडियाबुल्स इंफ्रास्टेट लिमिटेड ने 25 करोड़ और दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड ने 25 करोड़ रुपये का चंदा दिया।

जेएसङब्ल्यू एनर्जी लिमिटेड की बाड़मेर इकाई ने भी 15 करोड़ रुपये का दान दिया। इस बीच, रिपोर्ट के मुताबिक, डीएलएफ लिमिटेड और डीएलएफ होम डेवलपर्स लिमिटेड ने मिलकर कुल 31 करोड़ रुपये का दान दिया।

2018-19 के मुक़ाबले जीएमआर इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड ने 25 करोड़ रुपये, अल्ट्राटेक सीमेंट लिमिटेड ने 23 करोड़ रुपये और भारती एयरटेल लिमिटेड ने 21.1 करोड़ रुपये के साथ टॉप ङोनर में शामिल रहे।

वित्त वर्ष 2020 में कॉरपोरेट्स के अलावा, 18 लोगों ने इलेक्टोरल ट्रस्टों में लगभग 2.93 करोड़ रुपये का चंदा दिया था। रिपोर्ट के मुताबिक़ प्रूडेंट इलेक्टोरल ट्रस्ट को कुल चंदे का अकेले 75 फीसदी हिस्सा प्राप्त हुआ, जो सबसे बड़ी रकम है। जनकल्याण इलेक्टोरल ट्रस्ट को कुल 72 करोड़ रुपये मिले, जिनमें से तीन-चौथाई जेएसडब्ल्यू समूह की कंपनियों से आए।

प्रूडेंट इलेक्टोरल ट्रस्ट को मिले चंदे में सबसे ज़्यादा भारतीय जनता पार्टी को दिए गए और इसी ट्रस्ट के माध्यम से बीजेपी को सबसे ज़्यादा चंदा मिलता रहा है। बीजेपी ने चुनावी ट्रस्टों से 2019-20 में 276.45 करोड़ रुपये जुटाए, जिसमें 217 करोड़ रुपये अकेले प्रूडेंट इलेक्टोरल ट्रस्ट से ही मिले थे।

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को कुल 58 करोड़ रुपये मिले जबकि आम आदमी पार्टी को 11.2 करोड़ रुपये मिले। 2013 के बाद से चुनावी ट्रस्टों से चंदे का सबसे बड़ा फायदा बीजेपी को ही हुआ है।

ताज़ा वीडियो