ads

तमिलनाडु के इस गांव में पक्षियों की सुरक्षा के लिये लोग नहीं जलाते हैं पटाखे

by Rumana Alvi 1 year ago Views 965

People do not burn firecrackers for the safety of
दीवाली पर पटाखों से होने वाले धुएं और  प्रदूषण से पहले भले ही सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली एनसीआर में पटाखों को बेचने पर पाबंदी लगाते हुए. कुछ ही दुकानदारों को लाइसेंस दिया हो. लेकिन तमिलनाडु में कई ऐसे भी गांव है. जो आपसी सहमती से  दीवाली पर पक्षियों की रक्षा के लिए पटाखे नहीं जलाते.

तमिलनाडु के ईरोड़ के वेल्लोड सेंचुरी में नजर आ रहे हैं. इनको सुरक्षित रखने के लिए गांववालों ने पिछले 14 सालों से दीवाली नहीं मनाई है. अक्टूबर से जनवरी तक कई  प्रजातियों के पक्षी प्रवास करते हैं. पटाखे की आवाज से पक्षी डरते हैं. और पक्षियों को बचाने के लिए आसपास के गांव के लोग दीवाली पर पटाखे नहीं जलाते है. ताकि पक्षियों को सुरक्षित रख सकें.


वीडियो देखिये

क्योकि पक्षी पटाखों की आवाज से डर जाते हैं. बढ़ते प्रदूषण और खतरनाक स्मॉग का असर इंसानों के साथ परिंदो पर भी नजर आता है. इंसानों को भी पटाखों से  होने वाले धुएं सें सांस लेने में दिक्कत होती है. और ऐसे में पक्षियों को बचाने की गांववालों की पहल काबिले तारीफ हैं.

ताज़ा वीडियो