अब टाटा ग्रुप करेगा Air India का संचालन, केन्द्र का ऐलान

by GoNews Desk 7 months ago Views 2380

Now Tata Group will operate Air India
एयर इंडिया का संचालन टाटा संस के हाथों में दे दी गई है। केन्द्र ने शुक्रवार को विनिंग बिड के लिए टाटा की सहायक कंपनी टैलेस प्राइवेट लिमिटेड के नाम का ऐलान किया है। टाटा की सहयाक कंपनी 18000 करोड़ रूपये के साथ विनिंग बिडर रही। विनिंग कंपनी इनमें 15,300 करोड़ रूपये एयर इंडिया पर क़र्ज़ के तौर पर और बाकि का कैश सरकार को देगी।

31 अगस्त, 2021 तक एयर इंडिया का कुल क़र्ज़ 61,562 करोड़ रुपये रहा था। इसमें से जीतने वाली बोली लगाने वाली कंपनी को 15,300 करोड़ रूपये का भुगतान करना था और शेष 45,263 करोड़ का भुगतान सरकार द्वारा ऋणदाताओं को किया जाएगा। दूसरा बिडर स्पाइसजेट था जिसने क़र्ज़ में डूबी एयरलाइन के लिए 15,100 करोड़ रूपये की बोली लगाई थी।


हालांकि सरकार द्वारा निर्धारित आरक्षित मूल्य 12,000 करोड़ रूपये था। सरकार का लक्ष्य दिसंबर, 2021 तक इस सौदे को पूरा करना है, तब एयर इंडिया का संचालन टाटा की सहायक कंपनी को हस्तांतरित कर दी जाएगी। गोन्यूज़ ने आपको पहले भी बताया था कि सरकारी कंपनी भारी क़र्ज़ में है।

साल 2020 में आई एक रिपोर्ट के मुताबिक़ एयर इंडिया का कुल घाटा 40 हज़ार करोड़ से ज्यादा था और वित्त वर्ष 2019 के दौरान एयर इंडिया के संचालन में 4,600 करोड़ का नुकसान हुआ था। तब से अबतक कंपनी पर क़र्ज़ बढ़कर 60 हज़ार के पार पहुंच गया।

हालांकि महामारी के दौरान विदेशों में फंसे लाखों भारतीय नागरिकों को लाने के लिए इसी एयरलाइन का सहारा लिया गया। इस दौरान यात्रियों से दोगुने से भी ज़्यादा किराया वसूले गए।

एयर इंडिया के पास कुल 146 एयरक्राफ्ट हैं। 31 मार्च, 2017 तक एयर इंडिया में कुल 14 हज़ार 101 कर्मचारी काम कर रहे थे। इसका औसत निकाला जाए तो एयर इंडिया के एक एयरक्राफ्ट पर 133 कर्मचारी काम करते हैं। वहीं देश की सबसे बड़ी निजी एयरलाइंस कंपनी इंडिगो के पास 250 एयरक्राफ्ट हैं जहां 31 मार्च, 2019 तक 23,531 कर्मचारी काम कर रहे थे।

अब अगर दोनों एयरलाइंस की तुलना की जाए तो एयर इंडिया के एक विमान पर 133 तो इंडिगो के एक विमान का कामकाज 94 कर्मचारी संभालते हैं। इनमें भी महामारी के दौरान कंपनी ने अपने 10 फीसदी स्टाफ की छुट्टी कर दी थी।

ताज़ा वीडियो