ads

द.अफ्रीका से आये नये स्ट्रेन से ब्रिटेन में कोरोना की दूसरी लहर की आशंका, भारत में भी बढ़ी चिंता

by Ankush Choubey 4 months ago Views 3072

ब्रिटेन के वैज्ञानिक दक्षिण पूर्व इंर्लैंड में एक प्रयोगशाला में वायरस के नए स्वरूप की जांच कर रहे हैं।  ब्रिटेन में बुधवार को संक्रमण के 36 हज़ार 804 मामले आये।

New strains coming from Africa, fear of second wav
ब्रिटेन में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन या रूप  मिलने से दुनिया भर में बढ़ी चिंता के बीच एक और बुरी ख़बर आ गयी है। ब्रिटेन के स्वास्थ्य मंत्री मैट हैनकॉक ने बुधवार को कहा कि दक्षिण अफ्रीका से लौटे दो लोगों में  कोरोना वायरस के एक और नए वेरिएंट का पता चला है। विशेषज्ञों ने वायरस के इस दक्षिण अफ्रीकी रूप के सामने आने के बाद देश में महामारी की दूसरी लहर की आशंका जताई है।

मैट हैनकॉक ने चिंता जतायी है कि दोनों मरीजों में मिला वायरस का नया रूप ब्रिटेन में हाल ही में मिले वायरस के एक अन्य रूप से भी ज्यादा संक्रामक है।  ऐसा लग रहा है कि यह पहले वाले रूप से ही म्यूटेट हुआ है। सरकार ने दक्षिण अफ्रीका से आवागमन पर तत्काल रोक लगा दी है। पिछले पखवाड़े में दक्षिण अफ्रीका से आने वालों या उनके संपर्क में आने वालों को तुरंत आइसोलेट होने के लिए कहा गया है।  


ब्रिटेन के वैज्ञानिक दक्षिण पूर्व इंर्लैंड में एक प्रयोगशाला में वायरस के नए स्वरूप की जांच कर रहे हैं।  ब्रिटेन में बुधवार को संक्रमण के 36 हज़ार 804 मामले आये। महामारी शुरू होने के बाद पहली बार एक दिन में इतने मामले आये हैं। ब्रिटेन में मिला कोरोना के ये नया रूप दक्षिण अफ्रीका में तेजी से फैल रहा है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक ब्रिटेन को इसीलिए कोरोना की दूसरी बड़ी दूसरी लहर का सामना करना पड़ सकता है।

दक्षिण अफ्रीका के स्वास्थ्य विभाग ने पिछले हफ्ते ही कहा था कि वायरस का एक नया जेनेटिक म्यूटेशन पाया गया है और हो सकता है कि हाल में हुई  संक्रमण में वृद्धि के लिए यही जिम्मेदार हो। दक्षिण अफ्रीका में मरीजों की संख्या के साथ ही मौत के मामलों में भी तेज बढ़ोतरी हुई है। दक्षिण अफ्रीका में अब तक लगभग 9 लाख 55 हज़ार लोग कोरोना से संक्रमित हो चुकें और 25 हज़ार 600 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है।

दक्षिण अफ्रीका में कोरोना का जो नया वैरिएंट सामने आया है, वो ब्रिटेन में मिले नए स्ट्रेन से पूरी तरह अलग है।  वैज्ञानिक इस बात का अध्ययन कर रहे हैं कि क्या कोरोना वैक्सीन इस नए प्रकार से भी सुरक्षा प्रदान कर सकेगी?  

स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार 501.V2 के रूप में पहचाने गये इस स्ट्रेन के मामले देश में सामने आ रहे संक्रमण के नये मामलों में प्रमुख हैं। ब्रिटेन में अब तक कुल 21 लाख 49 हज़ार लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं जबकि 69 हज़ार से ज्यादा लोगों की जान भी जा चुकी है। संक्रमण फैलने के कारण पूर्वी और दक्षिण-पूर्वी इंग्लैंड में क्रिसमस के बाद 26 दिसंबर से सबसे कड़े समझे जाने वाले श्रेणी चार की पाबंदी लगायी जाएगी।

ब्रिटेन में आये कोरोना के दूसरे नये स्ट्रेन के बाद भारत में भी चिंताएं काफ़ी बढ़ गयी हैं। ब्रिटेन से आने वाली उड़ानों पर प्रतिबंध लगा दिया है। ब्रिटेन में भारत आने वाले कम से कम 22 यात्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।  अधिकारियों ने बताया कि ब्रिटेन से या ब्रिटेन होकर आए 11 लोग दिल्ली में पॉजिटिव पाए गए जबकि 8 अमृतसर में, दो कोलकाता में और एक व्यक्त‍ि चेन्नई में पॉजिटिव पाया गया।  सरकार ने कहा है कि अभी तक भारत में कोरोना के नए स्ट्रेन से जुड़ा एक भी मामला सामने नहीं आया है। स्वास्थ मंत्री डॉ हर्षवर्धन में कहा कि घबराने की कोई बात नहीं है। सरकार पूरी तरह हर चुनौती के लिए तैयार।

बहरहाल, भारत में एक करोड़ से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं और 1 लाख 46 हज़ार से ज्यादा लोगों की जान भी जा चुकी है। इन आँकड़ों के बावजूद वैक्सीन लगाने का सिलसिला अब तक शुरू नहीं पा पाया है जैसा अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देशों में हो चुका है। इस बीच जो दो नए कोविड वेरिएंट सामने आ गये हैं। ऐसे में,  विकसित की जा रही वैक्सीन उन पर असर करेगी या नहीं, यह सबसे बड़ा सवाल है।

ताज़ा वीडियो