मध्य प्रदेश: आदिवासी शख़्स की लिंचिंग और मौत मामले में पांच आरोपियों के घर ज़मींदोज़

by M. Nuruddin 10 months ago Views 1395

Madhya Pradesh: Police demolished the house of fiv
मध्य प्रदेश के नीमच ज़िले में एक आदिवासी पुरूष की लींचिंग और हत्या मामले में एमपी पुलिस ने कार्रवाई की है। इस मामले में गिरफ़्तार किए गए पांच आरोपियों के घरों को पुलिस ने ध्वस्त कर दिए हैं। कान्हा उर्फ ​​कन्हिया भील को चोरी के शक में लोगों के एक समूह द्वारा बेरहमी से पीटने और पिकअप से बांधकर घसीटने का सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था।

यह घटना 26 अगस्त, गुरुवार शाम ज़िला मुख्यालय से करीब 70 किलोमीटर दूर सिंगोली थाना क्षेत्र के जेठलिया गांव की है। इस मामले में पुलिस ने आठ आरोपियों के ख़िलाफ़ मामले दर्ज किए थे। पुलिस ने इनमें पांच को गिरफ़्तार किया था। कन्हिया भील की बेरहमी से पिटाई करने और घसीटने की वजह से वो गंभीर रूप से घायल हो गए थे। इसके बाद उन्हें ज़िला अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां शुक्रवार शाम उनकी मौत हो गई।


घटना का एक वीडियो शनिवार को सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद पुलिस हरकत में आई। इसके बाद पुलिस ने अपनी कार्रवाई शुरु की। पुलिस और ज़िला प्रशासन ने गिरफ़्तार पांच आरोपियों की अवैध संपत्तियों की लिस्ट तैयार की। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों और ज़िला प्रशासन की टीम के नेतृत्व में भारी पुलिस बल आरोपियों के गांव पहुंचा और सभी पांचों आरोपियों के घरों और अवैध संपत्तियों को ध्वस्त कर दिया।

फ्री प्रेस जर्नल के मुताबिक़ पुलिस ने महेंद्र गुर्जर, अमरचंद, सत्तू, गोपाल गुर्जर और चित्तरमल के घरों को ध्वस्त किया है। इस दौरान जिला कलेक्टर मयंक अग्रवाल और एसपी सूरज कुमार वर्मा ने मृतक के परिजनों से मुलाकात की।

एसपी सूरज वर्मा ने कहा कि मामले के बाकी आरोपियों को जल्द ही गिरफ्तार किया जाएगा और आरोपियों के ख़िलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि इस मामले में आरोपियों की जो भी अवैध संपत्ति है उसे ध्वस्त किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में ले जाया जाएगा।

ज़िला कलेक्टर ने मृतक के परिजनों को हर संभव मदद का आश्वासन दिया है। उन्होंने मृतक के परिवार को 4.12 लाख रुपये की सहायता राशि देने का वादा किया है।

ग़ौरतलब है कि पुलिस आरोपियों के ख़िलाफ़ सोशल मीडिया पर मामले की वीडियो वायरल होने के बाद कार्रवाई शुरु की। हालांकि इस बात की जानकारी स्पष्ट नहीं है कि पुलिस ने संदिग्ध आरोपियों के घर को कोर्ट के आदेश के बाद ध्वस्त किया है।

ताज़ा वीडियो