ads

चीन का मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा नहीं ख़त्म करेगी मोदी सरकार

by Shahnawaz Malik 7 months ago Views 1199

Modi government will not end China's most favored
भारत-चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर तनाव जगज़ाहिर है लेकिन इसके बावजूद चीन का मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा नहीं ख़त्म किया जाएगा. संसद में सरकार ने साफ़ किया है कि चीन से मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस लिए जाने का फिलहाल कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है. हालांकि फ़रवरी 2019 में पुलवामा हमले के बाद मोदी सरकार ने पाकिस्तान का मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा ख़त्म कर दिया था.

चीन का मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा ख़त्म करने वाला सवाल बीजेपी सांसद मनोज कोटक ने पूछा था जिसके जवाब में कहा गया कि फिलहाल ऐसा कोई इरादा नहीं है. संसद में सरकार ने यह भी बताया कि अप्रैल से अगस्त के बीच भारत में चीन से होने वाले निर्यात में 27.63 फ़ीसदी की गिरावट दर्ज की गई है. वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने लोकसभा को बताया कि अगस्त में चीन से 4.98 अरब डॉलर और जुलाई में 5.58 अरब डॉलर का भारत को निर्यात किया गया.


केंद्र सरकार का यह फ़ैसला चौंकाने वाला है क्योंकि लद्दाख से लगी एलएसी पर हालात बेहद तनावपूर्ण हैं और चीन अपनी मनमानी कर रहा है. इसके बावजूद उसका मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा बरक़रार रखा गया है. यह दर्जा बरक़रार रहने से चीन को व्यापार संबंधी सुविधाएं मिलती रहेंगी और इससे उसका आयात बढ़ेगा.

हालांकि पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान के मामले में ऐसा नहीं हुआ था. 15 फ़रवरी 2019 को सरकार ने कड़ा कदम उठाते हुए पाकिस्तान का मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा ख़त्म कर दिया था और सर्जिकल स्ट्राइक भी की थी.  इसके कुछ ही महीने बाद हुए लोकसभा चुनाव में पाकिस्तान पर की गई कार्रवाई का मुद्दा छाया हुआ था और मौजूदा सरकार को चुनाव में ज़बरदस्त कामयाबी मिली थी.

मगर चीन के साथ परिस्थियां बिल्कुल उलट हैं. उसकी मनमानी के बावजूद केंद्र सरकार चीन से बातचीत के ज़रिए विवाद का हल निकालने में जुटी हुई है. दोनों देशों के रक्षा मंत्रियों, विदेश मंत्रियों के अलावा राजनयिकों और सैन्य अधिकारियों की कई दौर की मीटिंग हुई लेकिन विवाद का हल नहीं निकल रहा. सोमवार को एक बार फिर दोनों देशों के सैन्य कमांडरों के बीच 13 घंटे की लंबी बातचीत हुई और नतीजा ढाक के तीन पात रहा. रक्षा मामलों के विशेषज्ञ अजय शुक्ला ने पूछा कि जब चीनी सेना ने पैंगोंग, हॉट स्प्रिंग और डेप्सांग से पीछे हटने से मना कर रही है तो आख़िर क्या बातचीत चल रही है.

ताज़ा वीडियो