2.5 लाख करोड़ के क़र्ज़ में मध्य प्रदेश; शिवराज सरकार स्थापित करेगी 2000 करोड़ की मूर्ति

by GoNews Desk 5 months ago Views 1627

Madhya Pradesh in debt of 2.5 lakh crores; Shivraj
2.5 (या ढाई) लाख करोड़ के क़र्ज़ में डूबे मध्य प्रदेश में बीजेपी सरकार ने 2000 करोड़ की लागत से एक प्रतिमा स्थापित करने की योजना बनाई है। 108 फीट ऊंची आदि शंकराचार्य की इस प्रतिमा के साथ एक अंतरराष्ट्रीय संग्रहालय भी बनाने की योजना है, जिसे 2023 तक पूरा किया जाना है जब राज्य में विधानसभा चुनाव भी होंगे।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस महंगे परियोजना पर चर्चा के लिए पिछले सप्ताह आचार्य संस्कृति एकता न्यास के न्यासी बोर्ड की बैठक बुलाई थी जिसमें कई बड़े संतों ने हिस्सा लिया था।


मुख्यमंत्री ने इसकी भव्तयता के सपने दिखाते हुए कहा कि ओमकारेश्वर में शंकर संग्रहालय और अंतरराष्ट्रीय वेदांत संस्थान राज्य को दुनिया से जोड़ेगी।

स्टैच्यू ऑफ वननेस कहे जाने वाले इस स्टैच्यू की ऊंचाई 11 फीट होगी और इसे 54 फीट ऊंचे प्लेटफॉर्म पर स्थापित किया जाएगा। राज्य में स्थित मांधाता पर्वत पर 7.5 हेक्टेयर क्षेत्र में शंकराचार्य की मूर्ति स्थापित की जाएगी। 5 हेक्टेयर क्षेत्र में नर्मदा नदी के दूसरी ओर एक गुरुकुलम विकसित किया जाएगा और 10 हेक्टेयर क्षेत्र में आचार्य शंकर अंतर्राष्ट्रीय अद्वैत वेदांत संस्थान विकसित किया जाएगा।

हालांकि विपक्षी कांग्रेस के नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि इसे गंभीरता से नहीं लिया जाना चाहिए। पार्टी नेता ने राज्य पर क़र्ज़ के बोझ की ओर इशारा किया और कहा कि ‘परियोजना के लिए बजट आवंटन के बाद वे इसपर चर्चा करेंगे।’

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़ राज्य सरकार ने इस महंगे परियोजन का ऐलान ऐसे समय में किया है जब राज्य पर कुल बजट आवंटन से भी ज़्यादा क़र्ज़ का बोझ है। मध्य प्रदेश का बजट 2.41 लाख करोड़ है लेकिन राज्य पर कुल क़र्ज़ का बोझ 2.56 लाख करोड़ का है।

इसका मतलब है कि राज्य का हर नागरिक 34,000 रूपये के क़र्ज़ में है। कांग्रेस ने राज्य पर बढ़े इस क़र्ज़ को लेकर एक श्वेत पत्र की मांग की है।

फ्री प्रेस जर्नल की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ शिवराज सिंह चौहान की अगुवाई में बीजेपी सरकार ने वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान 52,286 करोड़ रूपये का क़र्ज़ लिया है, जो 2019-20 में कमलनाथ सरकार द्वारा लिए गए 23,430 करोड़ रूपये के क़र्ज़ के मुक़ाबले दोगुना है।

कांग्रेस का आरोप है कि इतना क़र्ज़ होने के बाद भी राज्य सरकार 49,000 करोड़ से ज़्यादा का क़र्ज़ ले रही है। इस मोटे क़र्ज़ पर राज्य सरकार करीब 21,000 करोड़ रूपये का मोटा ब्याज़ भी दे रही है।

इन सबके बीच विपक्ष का आरोप है कि राज्य के लोगों की कमाई घट रही है, महंगाई बढ़ रही है और आम जनता बदहाली में है।

ताज़ा वीडियो