संयुक्त किसान मोर्चा से क्यों सस्पेंड किए गए योगेंद्र यादव ?

by GoNews Desk 1 month ago Views 1136

#LakhimpurKheri: SKM Suspends Yogendra Yadav, Irke
स्वराज इंडिया के नेता योगेंद्र यादव को संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) से एक महीने के लिए निलंबित कर दिया गया है। लखीमपुर खीरी में मृतकभाजपा सदस्य के परिवार के घर दौरे के बाद किसान नेताओं ने योगेंद्र यादव के इस निर्णय पर विचार-विमर्श किया और उन्हें मोर्चे से निलंबित करने का फैसला सुनाया गया है। 

ये कदम लखीमपुर खीरी नरसंहार के आरोपी भाजपा कार्यकर्ता के घर जाने पर यादव के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई के तौर पर उठाया गया है। यह फैसला 21 अक्टूबर को आयोजित SKM की बैठक में लिया गया, जिसमें वो ख़ुद भी मौजूद थे।


जबकि योगेंद्र यादव ने हिंसा में मारे गए कथित आशीष मिश्रा के ड्राइवर की मौत पर उनके परिवार के प्रति सहानुभूति व्यक्त की थी। लेकिन किसान आंदोलन के लिए योगेंद्र यादव का यह दौरा ठीक नहीं है।

पंजाब किसान यूनियन, मनसा के अध्यक्ष रुलदू सिंह मनसा ने कहा, “योगेंद्र यादव को एक महीने के लिए मोर्चा से निलंबित करने का निर्णय लिया गया। ड्राइवर के परिवार से उनके मिलने से किसानों के आंदोलन के लिए सही नहीं है।" मोर्चे के इस फैसले के बाद इस अवधि के दौरान एसकेएम या इसकी किसी भी बैठक में हिस्सा नहीं ले सकेंगे।

किसान नेताओं के मुताबिक़, योगेंद्र यादव को मंच पर बोलने की अनुमति नहीं होगी और वे सिर्फ विरोध स्थलों पर ही भाग ले सकेंगे। उन्होंने कहा कि नेता अगले महीने कोर कमेटी की चर्चा में भी शामिल नहीं हो सकेंगे।

12 अक्टूबर को ड्राइवर के घर गए थे योगेंद्र यादव

12 अक्टूबर को, योगेंद्र यादव शुभम मिश्रा के परिवार से मिलने गए थे, जो कथित तौर पर प्रदर्शनकारी किसानों पर गाड़ी से कुचले जाने के बाद प्रकिशोध में मारे गए थे। 

उन्होंने ने ट्वीट भी किया था, 'शहीद किसान श्रद्धांजलि सभा से वापिसी में बीजेपी कार्यकर्ता शुभम मिश्रा के घर गए। परिवार ने हम पर गुस्सा नही किया। बस दुखी मन से सवाल पूछे: क्या हम किसान नहीं? हमारे बेटे का क्या कसूर था? आपके साथी ने एक्शन रिएक्शन वाली बात क्यों कही? उनके सवाल कान में गूंज रहे हैं!"

भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा था कि लखीमपुर हिंसा में मारे गए किसानों के अलावा लोग एक "प्रतिक्रिया" थे और इसे हिंसा नहीं माना जा सकता। बैठक के दौरान चर्चा का एक प्रमुख बिंदु यह था कि योगेंद्र यादव का दौरा इस मामले पर एसकेएम के रुख के ख़िलाफ़ था।

ताज़ा वीडियो