कर्नाटक पुलिस पूछताछ के नाम पर बच्चों का उत्पीड़न कर रही, पुलिस मुख्यालय का घेराव

by Shahnawaz Malik 2 years ago Views 1445

Karnataka police harassing children in the name of
नागरिकता क़ानून पर आधारित एक नाटक का मंचन करने पर कर्नाटक की बीदर पुलिस ने एक स्कूल शाहीन इंटरनेशनल और उसके टीचर्स पर देशद्रोह जैसी गंभीर धारा में मुक़दमा दर्ज किया था. इस मामले में अब आरोप लग रहा है कि पूछताछ के बहाने बीदर पुलिस स्कूली बच्चों का उत्पीड़न कर रही है. बीदर पुलिस इस मामले में अभी तक स्कूल के 85 बच्चों से पूछताछ कर चुकी है.

बीजेपी शासित राज्य कर्नाटक की पुलिस स्कूली बच्चों से बार-बार पूछताछ करने पर तीखी आलोचना झेल रही है. कर्नाटक पुलिस के मनमाने रवैये से भड़के तमाम संगठनों के कार्यकर्ताओं, वकीलों और पेरेंट्स ने राज्य के पुलिस मुख्यालय का घेराव किया है. प्रदर्शनकारियों ने कहा कि स्कूली बच्चों से मुजरिमों की तरह पूछताछ करना जुवेनाइल जस्टिस एक्ट और सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइंस का खुला उल्लंघन है. वकील मैत्रेयी ने कहा कि वो राज्य के पुलिस मुखिया से पूछने आई हैं कि बच्चों के साथ पुलिस कैसा बर्ताव कर रही है. 


मैत्रेयी ने कहा कि राज्य के एमएलए अल्पसंख्यकों को डराने और भड़काऊ भाषण देने वालों पर कार्रवाई नहीं होती लेकिन नागरिकता क़ानून पर आधारित एक नाटक का मंचन पर महिला टीचर को देशद्रोह के आरोप में जेल में डाल दिया जाता है. प्रदर्शनकारी वकील विनय श्रीनिवासन ने कहा कि राज्य पुलिस मनमाने तरीक़े से देशद्रोह का मुक़दमा दर्ज कर रही है.

वीडियो देखिये

कर्नाटक की बीदर पुलिस अभी तक शाहीन इंटरनेशनल के 85 बच्चों से पांच बार कई-कई घंटे तक पूछताछ कर चुकी है. यह पूछताछ 21 जनवरी को स्कूल में हुए एक नाटक के मंचन से जुड़ा है जो विवादित नागरिकता क़ानून पर आधारित था. मगर एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने शिक़ायत पर बीदर पुलिस में शाहीन इंटरनेशनल स्कूल और उसकी महिला टीचर्स पर देशद्रोह की गंभीर धाराओं में मुक़दमा दर्ज कर लिया. इसके बाद स्कूल से जुड़ी दो महिलाओं को गिरफ़्तार भी कर लिया. हालांकि कार्रवाई के बाद भी बीदर पुलिस बार-बार बच्चों से पूछताछ करने स्कूल पहुंच रही है. शाहीन इंटरनेशनल स्कूल का आरोप है कि पुलिस जांच के नाम पर जानबूझकर बच्चों का उत्पीड़न कर रही है.

ताज़ा वीडियो