Karnataka Hijab Row: हाई कोर्ट से मुस्लिम छात्राओं को राहत नहीं; अगली सुनवाई 14 फरवरी को

by GoNews Desk 6 months ago Views 1753

Karnataka Hijab Row: No relief to Muslim girl stud
कर्नाटक के सरकारी कॉलेज में हिजाब बैन को लेकर हाई कोर्ट में तीसरे दिन की सुनवाई ख़त्म हो गई है। हाई कोर्ट के सिंगल जज जस्टिस कृष्ण एस. दीक्षित की बेंच द्वारा यह मामला बड़े बेंच को रेफर किया गया था।

इसके बाद तीन जजों की बेंच जिसमें हाई कोर्ट की चीफ जस्टिस रितु राज अवस्थी भी शामिल हैं, ने गुरुवार को मामले की सुनवाई की। सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस का कड़ा रुख देखा गया।


याचिकाकर्ताओं के वकीलों की मांग थी कि मुस्लिम छात्राओं को कोर्ट द्वारा अंतरिम राहत दी जाए और मामले में आगे की सुनवाई जारी रहे लेकिन चीफ जस्टिस रितु अवस्थी ने वकीलों की इन मांगों को ख़ारिज कर दिया।

चीफ जस्टिस ने कहा कि “हम इस मुद्दे पर जल्द से जल्द फैसला करने के लिए तैयार हैं, लेकिन हमें लगता है कि शांति बहाल होनी चाहिए। फ़ैसला आने तक आप इन धार्मिक कपड़ों को पहनने के लिए ज़िद न करें जो कि अनुकूल नहीं हैं।”

उन्होंने कहा, “हम एक आदेश पारित करेंगे, कि संस्थानों को फिर से शुरु किया जाए, लेकिन जब तक मामला यहां लंबित है, कोई भी छात्रा धार्मिक पोशाक पहनने पर ज़ोर नहीं दे सकती हैं।”

इसपर याचिकाकर्ता के वकील देवदत्त कामत ने कहा, “यह हमारे अधिकारों का निलंबन होगा। यह उनके अधिकारों का घोर अपमान होगा। हमें भोजन और पानी के बीच चयन करने के लिए कहा गया है और दोनों आवश्यक हैं।”

याचिकाकर्ता के वकील के तर्क पर चीफ जस्टिस ने कहा, “कुछ दिनों की बात है, कृपया सहयोग करें।” वहीं इसपर एक अन्य याचिकाकर्ता के वकील संजय हेगड़े ने कहा, “कुछ दिनों के लिए ही सही हमें अपने विश्वास को निलंबित करने के लिए नहीं कहा जा सकता।”

हाई कोर्ट की चीफ जस्टिस ने आगे कहा, “सुनवाई के दौरान हम सभी को धार्मिक प्रथाओं को अपनाने से रोकेंगे।” इसके बाद उन्होंने मामले की अगली सुनवाई सोमवार 2:30 बजे तक के लिए टाल दी।

ताज़ा वीडियो