JNU के शिक्षकों ने VC के ख़िलाफ मोर्चा खोला

by Ankush Choubey 3 weeks ago Views 763
JNU teachers open front against VC
ads
पिछले 23 दिनों से जेनएयू में जारी छात्रों का विरोध प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा है। मंगलवार को जेएनयू कैम्पस में छात्रों ने प्रेस कांफ्रेंस कर साफ़ कहा कि वह झुकने वाले नहीं हैं। छात्रों ने ऐलान किया कि जबतक बढ़ाई गई फीस पूरी तरह से वापस नहीं ली जाती तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा और पुलिस चाहे कितना भी दबाव बनाले वो डरने वाले नहीं हैं। छात्रों का कहना है कि अब तक उन्हें कोई भी आश्वासन नहीं मिला है। JNUSU की अध्यक्ष आइशी घोष ने आरोप लगाया कि दिल्ली पुलिस के पुरुष जवानों के द्वारा छात्राओं को पकड़ा जा रहा था, जो कि पूरी तरह से गलत है। छात्रों ने मानव संसाधन मंत्रालय से मांग की है कि वो इस मामले में खुद जेएनयू प्रशासन को नोटिफिकेशन जारी कर फीस बढ़ोतरी वापस लेने का आदेश दें।

वहीँ दूसरी तरफ मंगलवार को छात्रों के समर्थन में जेनएयू के शिक्षक एसोसिएशन ने सड़कों पर विरोध-प्रदर्शन किया और वाइस चांसलर पर आरोप लगया है कि इन सबके पीछे वीसी का हाथ है।

Also Read: जेएनयू छात्रों के साथ महिला कांग्रेस: सुष्मिता देव

JNU छात्रों के द्वारा सोमवार को किए गए प्रदर्शन पर दिल्ली पुलिस ने कानून का उल्लंघन करने के आरोप में किशनगढ़ थाने में एफआईआर दर्ज की। जिसके बाद ये मामला संसद में गूंजा। लोकसभा में बीएसपी के संसाद दानिश अली ने कहा कि दिल्ली पुलिस द्वारा छात्रों पर लाठीचार्ज करना निंदनीय घटना है। सरकार को एक कमेटी बनाकर इसकी जाँच करवाई जानी चाहिए। राज्यसभा में जेएनयू के छात्रों पर हुए लाठीचार्ज को लेकर वाम दलों ने संसद से वाकआउट कर दिया। वहीँ महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुष्मिता देव ने कहा कि छात्रों पर जो लाठीचार्ज हुआ वो लोकतंत्र के खिलाफ है।

फीस बढ़ोतरी का ये मामला जेएनयू कैम्पस से लेकर संसद तक पहुंच गया है। पिछले 23 दिनों से छात्रों का प्रदर्शन जारी है लेकिन जेएनयू प्रशासन की तरफ से अबतक उनकी मांगों पर कोई सुनवाई नहीं हुई है।