निवेशकों को टाटा ग्रुप समूह पर सबसे ज़्यादा भरोसा, बिड़ला और मुकेश अंबानी ग्रुप 2/3 तीसरे नंबर पर

by GoNews Desk 9 months ago Views 2130

Equitymaster

इंडिपेंडेट इक्विटी रिसर्च इनिशिएटिव ‘इक्विटी मास्टर’ के कराए एक सर्वे में टाटा ग्रुप ने पहला स्थान हासिल किया है। यह सर्वे देश के कॉर्पोरेट समूहों की विश्वसनीयता का आकलन करने के लिए किया गया था। इक्विटी मास्टर के इस सर्वे के मुताबिक मल्टी- इंडस्ट्री ग्रुप टाटा निवेशकों के बीच सबसे भरोसेमंद बन कर ऊभरा है। उसे सर्वे में 66.3% फीसदी वोट मिले हैं। जबकि आखिरी बार 2013 में कराए गए ऐसे पोल में उसे सिर्फ 31.8 प्रतिशत वोट मिले थे। 

इक्विटीमास्टर के मुताबिक सर्वे यह समझने में मदद करता है कि क्या बड़े कॉर्पोरेट समूह निवेशकों का विश्वास अर्जित करने में सफल हुए हैं और उनकी दीर्घकालिक सफलता और विकास में विश्वास कैसे एक बड़ी भूमिका निभाता है जबकि चुनाव परिणामों से यह भी पता चलता है कि बेहतर निवेश सीधे प्रभावी कॉर्पोरेट प्रशासन से संबंधित हैं। 

इक्विटीमास्टर का यह सर्वे देश के 17 नाम कॉर्पोरेट समूह पर कराया गया था और इसमें 5,274 लोगों ने भाग लिया। सर्वे में पता चला है कि टाटा ग्रुप के अलावा सभी दूसरे कॉर्पोरेट समूह जैसे हीरो, जिंदल आदि पोल में भाग लेने वाले लोगों  की संख्या में से सिर्फ पांच प्रतिशत तक का ही भरोसा जीतने में कामयाब हुए हैं। टाटा समूह के बाद लोगों ने सबसे अधिक भरोसा एवी बिड़ला समूह और मुकेश अंबानी समूह पर दिखाया। यह सर्वे में दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे और इन्हें क्रमशः 5.1 प्रतिशत और 7.1 प्रतिशत वोट मिले हैं। 

इसके अलावा राहुल बजाज ग्रुप को 3.5 प्रतिशत, मंहिद्रा समूह को 2.8 प्रतिशत, टीवीएस ग्रुप को 2.4 फीसदी, अडानी समूह और किरलोसकर समूह को क्रमशः 1.8 फीसदी और 1.5 प्रतिशत वोट मिले। CEAT टायर बनाने वाली RPG ग्रुप पर निवेशकों ने सबसे कम सिर्फ 0.8 फीसदी का भरोसा जताया है जबकि 2.3 फीसदी निवेशकों ने 17 समूहों मे से किसी को भी वोट नहीं दिया। 

साल 2013 के बाद हाल ही में कराए गए इस सर्वे में पिछली बार के मुकाबले कई बदलाव देखने को मिले हैं। उदारहण के लिए भले ही अडानी ग्रुप और मुकेश अंबानी समूह को इस सर्वे में कम वोट मिले हैं लेकिन पिछली बार की मुकाबले उनकी रैंक अच्छी हुई है। एवी बिड़ला, गोदरेज और टीवीएस समूह की रैंक 2 पायदान उपर हुई है। मुकेश अंबानी ग्रुप और राहुल बजाज ग्रुप क्रमशः 6 और 9 रैंक ऊपर ऊठे हैं। 

बता दें टाटा ग्रुप के दावे के मुताबिक उसकी इक्विटी शेयर पूंजी का 66 फीसदी हिस्सा परोपकारी ट्रस्टों के पास है। टाटा की ऑफिशियल वेबसाइट के मुताबिक साल 2019-20 में टाटा समूह ने 7.5 ट्रिलियन रूपये की आय अर्जित की थी। स्वदेशी टाटा समूह की 29 कंपनियां हैं जो अलग अलग क्षेत्रों में काम करती हैं और इन कंपनियों में 7.5 लाख से ज़्यादा लोग कार्यरत हैं जबकि 31 मार्च 2020 तक कंपनियों की मार्केट वेल्यू 9.3 ट्रिलियन रूपये हैं।

ताज़ा वीडियो