ads

महंगाई की मार: महिला कांग्रेस फ्लैश मॉब लेकर पेट्रोलियम मंत्रालय में घुसी, गेट पर प्रदर्शन

by Rahul Gautam 11 months ago Views 785

Inflation hit: Women congress entered into petrole
गिरती अर्थव्यवस्था और रिकॉर्ड तोड़ती महंगाई से आम आदमी पर पड़ने वाली मार बढ़ रही है। केंद्र सरकार ने गैर-सब्सिडी वाले एलपीजी सिलेंडर की कीमत में 150 रुपए की बढ़ोतरी की तो जनवरी में महंगाई मई 2014 के बाद से अब तक के उच्चतम स्तर पर है. विपक्षी दलों ने इस मुद्दे पर अब सरकार को घेरना शुरू कर दिया है.


रसोई गैस की क़ीमत में 150 रुपए की बढ़ोतरी के बाद केंद्र सरकार विपक्षी दलों के निशाने पर आ गई है. महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सुष्मिता देव एक फ्लैश मॉब लेकर पेट्रोलियम एवं गैस मंत्रालय पहुंच गई और गेट तोड़कर अंदर घुसने की कोशिश की. उन्होंन पूछा कि क्या यही है मोदी सरकार का सबका साथ, सबका विकास। सीपीएम नेता मोहम्मद सलीम ने जानलेवा महंगाई पर सरकार को लताड़ लगाई और कहा कि अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर सरकार फेल हो गई है. 

Also Read: दिल्ली चुनाव: गाली गोली नहीं चली

केंद्रीय सांख्यिकी मंत्रालय के नए आंकड़े बताते हैं कि देश में बीती जनवरी में खुदरा महंगाई दर 7.59 फीसदी पहुंच गई जो कि नरेंद्र मोदी के छह साल के कार्यकाल का सबसे उच्चतम स्तर है। रसोई गैस के दाम में 150 रुपए की उछाल से जनता में हाहाकार मचना शुरू हो गया है. नवंबर से ही खाने-पीने के सामानों की कीमतों में इज़ाफ़ा हो रहा है. नवंबर में खाने-पीने की चीज़ों की महंगाई दर 5.54 फीसदी थी जो दिसंबर में बढ़कर 7.35 फीसदी और अब बीते जनवरी में 11.8 फीसदी पहुंच गई है।

वीडियो देखिये

सब्ज़ियों के दाम 2019 जनवरी के मुक़ाबले जनवरी 2020 में 50.19 फीसदी ज्यादा हैं. मांस-मछली और अंडे जैसी चीज़ों की कीमतों में इस दौरान 10.5 फीसदी तक उछाल आ गया है। दाल की कीमतें भी 2019 जनवरी के मुकाबले बीते जनवरी में 16.71 फीसदी चढ़ गयी हैं। आरबीआई ने महंगाई दर को 4 फीसदी तक रखने का लक्ष्य रखा था जिसमें 2 फीसदी की कटौती और बढ़ोतरी की गुंजाइश थी। ज़ाहिर है खुदरा महंगाई दर का 7.59 फीसदी पहुंचना बताता है कि फ़िलहाल महंगाई काबू के बाहर है।