ads

डबल म्यूटेशन से बढ़ रहे देश में संक्रमण के मामले: साइंटिस्ट

by GoNews Desk 1 month ago Views 1224

infection case increasing in the country due to do
देश में भयावह होती कोरोना की दूसरी लहर के पीछे संक्रमण का नया वैरिएंट है। कई राज्य ऐसे हैं जहां कोरोना के मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं, वहां म्यूटेंट या B.1.617 वैरिएंट पाया गया है। ये बात नेशनल सेंटर फॉर डिज़िज़ कंट्रोल के एक अधिकारी ने कही है। 

साथ ही यह भी कहा गया है कि बढ़ते संक्रमण के मामले और नए म्यूटेंट में क्या संबंध है इसको पूरी तरह से स्थापित नहीं किया जा सका है। दरअसल डबल म्यूटेंट उसे कहा जाता है, जिसमें वायरस में दो म्यूटेंट शामिल हों। केन्द्र के साथ काम करने वाले वरिष्ठ साइंटिस्टों ने भी कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चेतावनी दी है। कहा गया है कि संक्रमण जिस तरह से म्यूटेट कर रहा है उस हिसाब से देश में तीसरी लहर का आना तय है। 


स्वास्थय मंत्रालय ने माना है कि जानकार इस बात का अंदाज़ा नहीं लगा पाए कि दूसरी लहर इतनी भयावह होगी और इतनी बड़ी संख्या में लोगों को संक्रमित कर देगी।
यह भी कहा गया है कि जिस तरह से संक्रमण की दूसरी लहर देश में कहर बनी है उस हिसाब से तीसरी लहर को आने से कोई नहीं रोक सकता। हालांकि ये कबतक आ सकता है इसको लेकर कुछ साफ नहीं है लेकिन अधिकारियों ने तैयार रहने की बात कही है। 

ग़ौरतलब है कि न्यूज़ एजेंसी रॉयटर्स ने एक रिपोर्ट प्रकाशित कर यह भी बताया था कि सरकार ने वैज्ञानिकों की बात नहीं मानी। वैज्ञानिकों ने पहले ही चेताया था कि देश में संक्रमण से हालात ख़राब हो जाएंगे लेकिन मोदी सरकार की लापरवाही की वजह से आज देश में संक्रमण से हालात बेकाबू हो गए।

मौजूदा संक्रमण की दूसरी लहर ने ही देश में स्वास्थ्य व्यवस्था की हालत ख़स्ता कर दी है। अस्पतालों में बेड, ऑक्सीजन की किल्लत है और भारी संख्या में लोग इन बुनियादी सुविधा की कमी से दम तोड़ रहे हैं।

इस बीच देश में लॉकडाउन लगाने की बात ज़ोर पकड़ने लगी है। वायरोलॉजिस्ट समेत विपक्ष केन्द्र को लॉकडाउन लगाने की सलाह दे रहे हैं। अमेरिकी व्हाइट हाउस के सीनियर महामारी एक्सपर्ट एंथनी फाउसी भी कुछ हफ्तों के लॉकडाउन की सलाह दी है। 

इतना ही नहीं सुप्रीम कोर्ट ने भी केन्द्र को लॉकडाउन लगाने की सलाह दी थी। साथ ही कोर्ट ने यह भी कहा था कि लॉकडाउन लगाने से पहले यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि लोगों के लिए पहले पर्याप्त इंतज़ाम किए जाएं। 

क्या है डबल म्यूटेंट ?

आठ राज्यों से लिए गए लगभग 13,000 सैंपल की जांच करने पर 3500 से ज़्यादा सैंपल में हैरान कर देने वाले म्यूटेंट वायरस पाए गए जिसमें B.1.617 भी शामिल थे। B.1.617 वेरिएंट गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल, छत्तीसगढ़ जैसे राज्यों के सैंपल में पाए गए हैं। इन सभी राज्यों में संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं। हालांकि बीते कुछ महीने में भारतीय स्वास्थ्य मंत्रालय इस बात से इनकार करता रहा है कि देश में वायरस का कोई म्यूटेंट भी है। 

अब ख़ुद सरकार मान रही है देश में संक्रमण के बेतहाशा बढ़ते मामलों के पीछे वायरस का म्यूटेंट ही है लेकिन फिर भी यह बात कही जा रही है कि इसे पूरी तरह से स्थापित नहीं किया जा सका  है।

ताज़ा वीडियो