ads

भारत मसालों के वैश्विक व्यापर पर फिर हो रहा है काबिज़, चीन, अमेरिका में ज़बरदस्त मांग

by Rahul Gautam 7 months ago Views 1269

India is reviving the global trade of spices, Chin
देश में पिछले सालों से मसालों की मांग ज़बरदस्त तरीके से बढ़ी है। ताज़ा जारी आंकड़ों से लगता है मानों देश फिर से पुराने दौर की तरह मसालों के देश के तौर पर उभर रहा है। इन मसालों में खासतौर पर धनिया, जीरा, हल्दी, मेथी और अदरक शामिल है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक साल 2018-19 में जहां देश में अदरक की मांग केवल 18,150 टन थी, जोकि अगले ही साल बढ़कर हो गया 50,410 टन यानि 178% का उछाल। इसी तरह 2018-19 में जहां जीरा की मांग 1 लाख 80 हज़ार 300 टन से 2019-20 में बढ़कर हो गया 2 लाख 10 हज़ार टन यानि 16 फीसदी से ज्यादा का उछाल।

इसी तरह धनिया 48 हज़ार 900 टन बढ़कर 50 हज़ार 250 टन हो गया। हल्दी की मांग 1 लाख 33 हज़ार टन से बढ़कर 1 लाख 36 हज़ार टन पहुंच गई यानि 2.25 फीसदी की बढ़ोतरी। मेथी की मांग 2018-19 में 27 हज़ार 150 टन से बढ़कर 27 हज़ार 660 टन पहुंच गया। इसी तरह इलाइची की मांग में 28 फीसदी बढ़ोतरी, मिक्स मसालों में 12 फीसदी, करी पाउडर में 12 फीसदी और करी पेस्ट की मांग में 12 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज़ हुई है।


बता दें, देश करीब 225 तरह के मसालों का निर्यात करता है जिससे ज़ाहिर है देश को आर्थिक शक्ति मिलती है। जिन मुल्कों में भारत के मसाले की ज़बरदस्त मांग है वो है चीन, बांग्लादेश, अमेरिका, थाईलैंड, श्री लंका, इंडोनेशिया और यूके। सबसे ज्यादा 24 फीसदी मसाले भारत निर्यात करता है चीन को 16 फीसदी, अमेरिका, बांग्लादेश और यूनाइटेड अरब अमीरात को 6-6 फीसदी।

बीते वित्त वर्ष भारत ने 3 अरब डॉलर मसालों के निर्यात से कमाए और जानकारों के मुताबिक ये रिकॉर्ड इस चालू वित्त वर्ष में टूट सकता है क्योंकि देश में इस वर्ष फसलों की बंपर बुआई हुई है।

ताज़ा वीडियो